kyun dhoondh rahe ho koi mujhsa mere andar | क्यों ढूँढ़ रहे हो कोई मुझसा मेरे अंदर - Abbas Qamar

kyun dhoondh rahe ho koi mujhsa mere andar
kuchh bhi na milega tumhein mera mere andar

gahwaar-e-ummeed sajaaye hue har roz
so jaata hai maasoom sa baccha mere andar

baahar se tabassum ki qaba odhe hue hoon
darasl hain mahshar kai barpa mere andar

zeibaaishe-maazi mein siyah-mast sa ik dil
deta hai bagaavat ko badhaava mere andar

sapnon ke ta'aqub mein hai aazurdah haqeeqat
hota hai yahi roz tamasha mere andar

main kitna akela hoon tumhein kaise bataaun
tanhaai bhi ho jaati hai tanhaa mere andar

andoh ki maujon ko in aankhon mein padho to
shaayad ye samajh paao hai kya kya mere andar

क्यों ढूँढ़ रहे हो कोई मुझसा मेरे अंदर
कुछ भी न मिलेगा तुम्हें मेरा मेरे अंदर

गहवार-ए-उम्मीद सजाए हुए हर रोज़
सो जाता है मासूम सा बच्चा मेरे अंदर

बाहर से तबस्सुम की क़बा ओढ़े हुए हूँ;
दरअस्ल हैं महशर कई बरपा मेरे अंदर

ज़ेबाइशे-माज़ी में सियह-मस्त सा इक दिल
देता है बग़ावत को बढ़ावा मेरे अंदर

सपनों के तआक़ुब में है आज़ुरदः हक़ीक़त
होता है यही रोज़ तमाशा मेरे अंदर

मैं कितना अकेला हूँ तुम्हें कैसे बताऊँ
तन्हाई भी हो जाती है तन्हा मेरे अंदर

अंदोह की मौजों को इन आँखों में पढ़ो तो
शायद ये समझ पाओ है क्या क्या मेरे अंदर

- Abbas Qamar
9 Likes

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abbas Qamar

As you were reading Shayari by Abbas Qamar

Similar Writers

our suggestion based on Abbas Qamar

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari