lamha dar lamha teri raah taka karti hai | लम्हा दर लम्हा तेरी राह तका करती है - Abbas Qamar

lamha dar lamha teri raah taka karti hai
ek khidki teri aamad ki dua karti hai

ek sofa hai jise teri zaroorat hai bahot
ek kursi hai jo mayus raha karti hai

salvaten cheekhti rahti hain mere bistar par
karvaton mein hi meri raat kata karti hai

waqt tham jaata hai ab raat guzarti hi nahin
jaane deewaar ghadi raat mein kya karti hai

chaand khidki mein jo aata tha nahin aata ab
teergi chaaro taraf rak's kiya karti hai

mere kamre mein udaasi hai qayamat ki magar
ek tasveer puraani si hansa karti hai

लम्हा दर लम्हा तेरी राह तका करती है
एक खिड़की तेरी आमद की दुआ करती है

एक सोफ़ा है जिसे तेरी ज़रूरत है बहोत
एक कुर्सी है जो मायूस रहा करती है

सलवटें चीखती रहती हैं मिरे बिस्तर पर
करवटों में ही मेरी रात कटा करती है

वक़्त थम जाता है अब रात गुज़रती ही नहीं
जाने दीवार घड़ी रात में क्या करती है

चाँद खिड़की में जो आता था नहीं आता अब
तीरगी चारो तरफ़ रक़्स किया करती है

मेरे कमरे में उदासी है क़यामत की मगर
एक तस्वीर पुरानी सी हँसा करती है

- Abbas Qamar
17 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abbas Qamar

As you were reading Shayari by Abbas Qamar

Similar Writers

our suggestion based on Abbas Qamar

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari