meri tanhaai badhaate hain chale jaate hain | मेरी तन्हाई बढ़ाते हैं चले जाते हैं - Abbas Tabish

meri tanhaai badhaate hain chale jaate hain
hans taalaab pe aate hain chale jaate hain

is liye ab main kisi ko nahin jaane deta
jo mujhe chhod ke jaate hain chale jaate hain

meri aankhon se baha karti hai un ki khushbu
raftagan khwaab mein aate hain chale jaate hain

shaadi i maarg ka maahol bana rehta hai
aap aate hain rulaate hain chale jaate hain

kab tumhein ishq pe majboor kiya hai hum ne
hum to bas yaad dilaate hain chale jaate hain

aap ko kaun tamaashaai samajhta hai yahan
aap to aag lagte hain chale jaate hain

haath patthar ko baadhaon to sagan i duniya
hairaati ban ke dikhte hain chale jaate hain

मेरी तन्हाई बढ़ाते हैं चले जाते हैं
हंस तालाब पे आते हैं चले जाते हैं

इस लिए अब मैं किसी को नहीं जाने देता
जो मुझे छोड़ के जाते हैं चले जाते हैं

मेरी आँखों से बहा करती है उन की खुशबु
रफ्तगां ख्वाब में आते हैं चले जाते हैं

शादी -इ -मार्ग का माहौल बना रहता है
आप आते हैं रुलाते हैं चले जाते हैं

कब तुम्हें इश्क़ पे मजबूर किया है हम ने
हम तो बस याद दिलाते हैं चले जाते हैं

आप को कौन तमाशाई समझता है यहाँ
आप तो आग लगते हैं चले जाते हैं

हाथ पत्थर को बाधाओं तो सगण -इ -दुनिया
हैराती बन के दिखते हैं चले जाते हैं

- Abbas Tabish
4 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abbas Tabish

As you were reading Shayari by Abbas Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Abbas Tabish

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari