sher likhne ka faayda kya hai | शेर लिखने का फायदा क्या है - Abbas Tabish

sher likhne ka faayda kya hai
us se kehne ko ab raha kya hai

pehle se tai shuda mohabbat mein
tu bata tera mashwara kya hai

surkh kyun ho rahe hain tere kaan
maine tujh se abhi kaha kya hai

aankhen mal mal ke dekhta hoon use
dopahar mein ye chaand sa kya hai

mera hum asar subah ka taara
mere baare mein jaanta kya hai

sochte hont bolti aankhen
hairaati ka muklima kya hai

shor sa uth raha hai chaar taraf
kuch gira hai magar gira kya hai

main yahan se palatna chahta hoon
ai khuda tera mashwara kya hai

jism ke us taraf hai gul aabaad
faand deewar dekhta kya hai

meri khud se mufaahamat na hui
tu bata tera masala kya hai

is liye bolne pe hoon majboor
aap sochenge sochta kya hai

ye bahut der mein hua maaloom
ishq kya hai mughalta kya hai

main to aadi hoon khaak chaanne ka
tum batao ki dhoondhna kya hai

ishq kar ke bhi khul nahin paaya
tera mera muaamla kya hai

mai bana tha khanakti mitti se
mere andar sukut sa kya hai

शेर लिखने का फायदा क्या है
उस से कहने को अब रहा क्या है

पहले से तै -शुदा मोहब्बत में
तू बता तेरा मश्वरा क्या है

सुर्ख क्यों हो रहे हैं तेरे कान
मैंने तुझ से अभी कहा क्या है

आँखें मल मल के देखता हूँ उसे
दोपहर में ये चाँद सा क्या है

मेरा हम -असर सुबह का तारा
मेरे बारे में जानता क्या है

सोचते होंठ बोलती आँखें
हैराती का मुकलिमा क्या है

शोर सा उठ रहा है चार -तरफ
कुछ गिरा है मगर गिरा क्या है

मैं यहाँ से पलटना चाहता हूँ
ऐ खुदा तेरा मश्वरा क्या है

जिस्म के उस तरफ है गुल आबाद
फांद दिवार देखता क्या है

मेरी खुद से मुफाहामत न हुई
तू बता तेरा मसाला क्या है

इस लिए बोलने पे हूँ मजबूर
आप सोचेंगे सोचता क्या है

ये बहुत देर में हुआ मालूम
इश्क़ क्या है मुघालता क्या है

मैं तो आदि हूँ खाक छानने का
तुम बताओ की ढूँढना क्या है

इश्क़ कर के भी खुल नहीं पाया
तेरा मेरा मुआमला क्या है

मै बना था खनकती मिटटी से
मेरे अंदर सुकुट सा क्या है

- Abbas Tabish
6 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abbas Tabish

As you were reading Shayari by Abbas Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Abbas Tabish

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari