tum hamaare ho ham tumhaare hain | तुम हमारे हो हम तुम्हारे हैं - Afzal Allahabadi

tum hamaare ho ham tumhaare hain
jaise dariya ke do kinaare hain

roothe roothe se sab nazaare hain
ik hamein hain jo gham ke maare hain

vo milaate hain nazar ham se
aur kahte hain ham tumhaare hain

hausla hai hamaare dil mein abhi
ham kahaan zindagi se haare hain

kya bataayein ki teri furqat mein
kis tarah ham ne din guzaare hain

us ko meri kabhi sataaye kyun
jis ke daaman mein chaand taare hain

ham ko afzal hai aasraa us ka
kaise kah den ki be-sahaare hain

तुम हमारे हो हम तुम्हारे हैं
जैसे दरिया के दो किनारे हैं

रूठे रूठे से सब नज़ारे हैं
इक हमें हैं जो ग़म के मारे हैं

वो मिलाते हैं नज़र हम से
और कहते हैं हम तुम्हारे हैं

हौसला है हमारे दिल में अभी
हम कहाँ ज़िंदगी से हारे हैं

क्या बताएँ कि तेरी फ़ुर्क़त में
किस तरह हम ने दिन गुज़ारे हैं

उस को मेरी कभी सताए क्यूँ
जिस के दामन में चाँद तारे हैं

हम को 'अफ़ज़ल' है आसरा उस का
कैसे कह दें कि बे-सहारे हैं

- Afzal Allahabadi
0 Likes

Eid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Allahabadi

As you were reading Shayari by Afzal Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Eid Shayari Shayari