apni tanhaaiyon ke ghaar mein hoon | अपनी तन्हाइयों के ग़ार में हूँ - Afzal Allahabadi

apni tanhaaiyon ke ghaar mein hoon
aisa lagta hai main mazaar mein hoon

tu ne poocha kabhi na haal mera
muddaton se tire dayaar mein hoon

teri khushboo hai meri saanson mein
jab se main teri rahguzar mein hoon

mujh pe apna hai ikhtiyaar kahaan
main to bas tere ikhtiyaar mein hoon

mujh ko manzil se aashna kar de
main tiri raah ke ghubaar mein hoon

jab se teri nigaah-e-lutf uthi
chaand taaron ki main qataar mein hoon

mujh ko duniya se kya garz afzal
main to dooba khayaal-e-yaar mein hoon

अपनी तन्हाइयों के ग़ार में हूँ
ऐसा लगता है मैं मज़ार में हूँ

तू ने पूछा कभी न हाल मिरा
मुद्दतों से तिरे दयार में हूँ

तेरी ख़ुशबू है मेरी साँसों में
जब से मैं तेरी रहगुज़ार में हूँ

मुझ पे अपना है इख़्तियार कहाँ
मैं तो बस तेरे इख़्तियार में हूँ

मुझ को मंज़िल से आश्ना कर दे
मैं तिरी राह के ग़ुबार में हूँ

जब से तेरी निगाह-ए-लुत्फ़ उठी
चाँद तारों की मैं क़तार में हूँ

मुझ को दुनिया से क्या ग़रज़ 'अफ़ज़ल'
मैं तो डूबा ख़याल-ए-यार में हूँ

- Afzal Allahabadi
1 Like

Manzil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Allahabadi

As you were reading Shayari by Afzal Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Manzil Shayari Shayari