raah bhola hoon magar ye meri khaami to nahin | राह भोला हूँ मगर ये मिरी ख़ामी तो नहीं - Afzal Khan

raah bhola hoon magar ye meri khaami to nahin
main kahi aur se aaya hoon maqaami to nahin

ooncha lahja hai faqat zor-e-dalaail ke liye
ai meri jaan ye meri talkh-kalaami to nahin

un darakhton ko dua do ki jo raaste mein na the
jaldi aane ka sabab tez-khiraami to nahin

teri masnad pe koi aur nahin aa saka
ye mera dil hai koi khaali asaami to nahin

main hama-waqt mohabbat mein pada rehta tha
phir kisi dost se poocha ye ghulaami to nahin

bartari itni bhi apni na jata ai mere ishq
tu nadeem-o-zaki o kaashif-o-kaami to nahin

राह भोला हूँ मगर ये मिरी ख़ामी तो नहीं
मैं कहीं और से आया हूँ मक़ामी तो नहीं

ऊँचा लहजा है फ़क़त ज़ोर-ए-दलाएल के लिए
ऐ मिरी जाँ ये मिरी तल्ख़-कलामी तो नहीं

उन दरख़्तों को दुआ दो कि जो रस्ते में न थे
जल्दी आने का सबब तेज़-ख़िरामी तो नहीं

तेरी मसनद पे कोई और नहीं आ सकता
ये मिरा दिल है कोई ख़ाली असामी तो नहीं

मैं हमा-वक़्त मोहब्बत में पड़ा रहता था
फिर किसी दोस्त से पूछा ये ग़ुलामी तो नहीं

बरतरी इतनी भी अपनी न जता ऐ मिरे इश्क़
तू 'नदीम'-ओ-'ज़की' ओ 'काशिफ़'-ओ-'कामी' तो नहीं

- Afzal Khan
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Khan

As you were reading Shayari by Afzal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Khan

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari