shikast-e-zindagi vaise bhi maut hi hai na | शिकस्त-ए-ज़िंदगी वैसे भी मौत ही है ना - Afzal Khan

shikast-e-zindagi vaise bhi maut hi hai na
to sach bata ye mulaqaat aakhiri hai na

kaha nahin tha mera jism aur bhar yaarab
so ab ye khaak tire paas bach gai hai na

tu mere haal se anjaan kab hai ai duniya
jo baat kah nahin paaya samajh rahi hai na

isee liye humein ehsaas-e-jurm hai shaayad
abhi hamaari mohabbat nayi nayi hai na

ye kor-chashm ujaalon se ishq karte hain
jo ghar jala ke bhi kahte hain raushni hai na

main khud bhi yaar tujhe bhoolne ke haq mein hoon
magar jo beech mein kam-bakht shaayeri hai na

main jaan-boojh ke aaya tha teg aur tire beech
miyaan nibhaani to padti hai dosti hai na

शिकस्त-ए-ज़िंदगी वैसे भी मौत ही है ना
तो सच बता ये मुलाक़ात आख़िरी है ना

कहा नहीं था मिरा जिस्म और भर यारब
सो अब ये ख़ाक तिरे पास बच गई है ना

तू मेरे हाल से अंजान कब है ऐ दुनिया
जो बात कह नहीं पाया समझ रही है ना

इसी लिए हमें एहसास-ए-जुर्म है शायद
अभी हमारी मोहब्बत नई नई है ना

ये कोर-चश्म उजालों से इश्क़ करते हैं
जो घर जला के भी कहते हैं रौशनी है ना

मैं ख़ुद भी यार तुझे भूलने के हक़ में हूँ
मगर जो बीच में कम-बख़्त शाएरी है ना

मैं जान-बूझ के आया था तेग़ और तिरे बीच
मियाँ निभानी तो पड़ती है दोस्ती है ना

- Afzal Khan
0 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Khan

As you were reading Shayari by Afzal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Khan

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari