vo jo ik umr se masroof ibaadat mein the | वो जो इक उम्र से मसरूफ़ इबादात में थे - Ahmad Nadeem Qasmi

vo jo ik umr se masroof ibaadat mein the
aankh khuli to abhi arsa-e-zulmaat mein the

sirf aafat na theen zaat-e-ilaahi ka suboot
phool bhi dasht mein the hashr bhi jazbaat mein the

na ye taqdeer ka likha tha na mansha-e-khuda
haadse mujh pe jo guzre mere haalaat mein the

main ne ki hadd-e-nazar paar to ye raaz khula
aasmaan the to faqat mere khayaalaat mein the

mere dil par to gireen aable ban kar boonden
kaun si yaad ke sehra the jo barsaat mein the

is sabab se bhi to main qaabil-e-nafrat thehra
jitne jauhar the mohabbat ke meri zaat mein the

sirf shaitaan hi na tha munkir-e-takreem nadeem
arsh par jitne farishte the meri ghaat mein the

वो जो इक उम्र से मसरूफ़ इबादात में थे
आँख खोली तो अभी अर्सा-ए-ज़ुलमात में थे

सिर्फ़ आफ़ात न थीं ज़ात-ए-इलाही का सुबूत
फूल भी दश्त में थे हश्र भी जज़्बात में थे

न ये तक़दीर का लिखा था न मंशा-ए-ख़ुदा
हादसे मुझ पे जो गुज़रे मिरे हालात में थे

मैं ने की हद्द-ए-नज़र पार तो ये राज़ खुला
आसमाँ थे तो फ़क़त मेरे ख़यालात में थे

मेरे दिल पर तो गिरीं आबले बन कर बूँदें
कौन सी याद के सहरा थे जो बरसात में थे

इस सबब से भी तो मैं क़ाबिल-ए-नफ़रत ठहरा
जितने जौहर थे मोहब्बत के मिरी ज़ात में थे

सिर्फ़ शैतान ही न था मुंकिर-ए-तकरीम 'नदीम'
अर्श पर जितने फ़रिश्ते थे मिरी घात में थे

- Ahmad Nadeem Qasmi
0 Likes

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari