qalam dil mein duboya ja raha hai | क़लम दिल में डुबोया जा रहा है - Ahmad Nadeem Qasmi

qalam dil mein duboya ja raha hai
naya manshoor likkha ja raha hai

main kashti mein akela to nahin hoon
mere hamraah dariya ja raha hai

salaami ko jhuke jaate hain ashjaar
hawa ka ek jhonka ja raha hai

musaafir hi musaafir har taraf hain
magar har shakhs tanhaa ja raha hai

main ik insaan hoon ya saara jahaan hoon
bagoola hai ki sehra ja raha hai

nadeem ab aamad aamad hai sehar ki
sitaaron ko bujhaaya ja raha hai

क़लम दिल में डुबोया जा रहा है
नया मंशूर लिक्खा जा रहा है

मैं कश्ती में अकेला तो नहीं हूँ
मिरे हमराह दरिया जा रहा है

सलामी को झुके जाते हैं अश्जार
हवा का एक झोंका जा रहा है

मुसाफ़िर ही मुसाफ़िर हर तरफ़ हैं
मगर हर शख़्स तन्हा जा रहा है

मैं इक इंसाँ हूँ या सारा जहाँ हूँ
बगूला है कि सहरा जा रहा है

'नदीम' अब आमद आमद है सहर की
सितारों को बुझाया जा रहा है

- Ahmad Nadeem Qasmi
0 Likes

Breakup Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Breakup Shayari Shayari