abhi dil mein goonjti aahaten mere saath hain | अभी दिल में गूँजती आहटें मिरे साथ हैं - Akhtar Shumar

abhi dil mein goonjti aahaten mere saath hain
tu nahin hai aur tiri dhadkanein mere saath hain

tu ne ek umr ke baad poocha hai haal-e-dil
wahi dard-o-gham wahi hasratein mere saath hain

tire saath guzre haseen lamhon ki shokhiyaan
wahi rang-o-boo wahi raunqen mere saath hain

mere paanv mein hain zameen ki sabhi gardishein
sabhi aasmaan ki saazishein mere saath hain

mere zehan mein hain mohabbaton ke vo raat din
vo aziyyaten vo nawaazishein mere saath hain

jo bichhadte lamhon shumaar tu ne kiye bahut
vo tamaam shikwe-shikaayatein mere saath hain

अभी दिल में गूँजती आहटें मिरे साथ हैं
तू नहीं है और तिरी धड़कनें मिरे साथ हैं

तू ने एक उम्र के बाद पूछा है हाल-ए-दिल
वही दर्द-ओ-ग़म वही हसरतें मिरे साथ हैं

तिरे साथ गुज़रे हसीन लम्हों की शोख़ियाँ
वही रंग-ओ-बू वही रौनक़ें मिरे साथ हैं

मिरे पाँव में हैं ज़मीन की सभी गर्दिशें
सभी आसमान की साज़िशें मिरे साथ हैं

मिरे ज़ेहन में हैं मोहब्बतों के वो रात दिन
वो अज़िय्यतें वो नवाज़िशें मिरे साथ हैं

जो बिछड़ते लम्हों 'शुमार' तू ने किए बहुत
वो तमाम शिकवे-शिकायतें मिरे साथ हैं

- Akhtar Shumar
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shumar

As you were reading Shayari by Akhtar Shumar

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shumar

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari