apni baahon ko ham ne patwaar kiya tha | अपनी बाहों को हम ने पतवार किया था - Akhtar Shumar

apni baahon ko ham ne patwaar kiya tha
tab ja kar vo khoon ka dariya paar kiya tha

patthar fenk ke logon ne jab izzat bakshi
ham ne apne haathon ko dastaar kiya tha

kaun se khwaab ne raat apni aankhen khuli theen
kis ki khushboo ne dil ko bedaar kiya tha

us ne dil par qabza kiya ban baitha aamir
ham ne jis ki shaahi se inkaar kiya tha

bante gaye the apni thokar se vo raaste
jin raston ko tu ne kal deewaar kiya tha

jin ko kabhi ik aankh na ham bhaaye the akhtar
ham ne un ki nafrat se bhi pyaar kiya tha

अपनी बाहों को हम ने पतवार किया था
तब जा कर वो ख़ून का दरिया पार किया था

पत्थर फेंक के लोगों ने जब इज़्ज़त बख़्शी
हम ने अपने हाथों को दस्तार किया था

कौन से ख़्वाब ने रात अपनी आँखें खोली थीं
किस की ख़ुशबू ने दिल को बेदार किया था

उस ने दिल पर क़ब्ज़ा किया बन बैठा आमिर
हम ने जिस की शाही से इंकार किया था

बनते गए थे अपनी ठोकर से वो रस्ते
जिन रस्तों को तू ने कल दीवार किया था

जिन को कभी इक आँख न हम भाए थे 'अख़्तर'
हम ने उन की नफ़रत से भी प्यार किया था

- Akhtar Shumar
1 Like

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shumar

As you were reading Shayari by Akhtar Shumar

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shumar

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari