musalmaan ke lahu mein hai saleeqa dil-nawaazi ka | मुसलमाँ के लहू में है सलीक़ा दिल-नवाज़ी का - Allama Iqbal

musalmaan ke lahu mein hai saleeqa dil-nawaazi ka
muravvat husn-e-aalam-geer hai mardaan-e-ghaazi ka

shikaayat hai mujhe ya rab khudaavandaan-e-maktab se
sabq shaheen bacchon ko de rahe hain khaak-baazi ka

bahut muddat ke nakchiron ka andaaz-e-nigah badla
ki main ne faash kar daala tareeqa shaahbaazi ka

qalander juz do harf-e-la-ilah kuchh bhi nahin rakhta
faqih-e-shahr qaaroon hai lugat-ha-e-hijaazi ka

hadees-e-baada-o-meena-o-jaam aati nahin mujh ko
na kar khaara-shigaafon se taqaza sheesha-saazi ka

kahaan se tu ne ai iqbaal seekhi hai ye darveshi
ki charcha paadshaahon mein hai teri be-niyaazi ka

मुसलमाँ के लहू में है सलीक़ा दिल-नवाज़ी का
मुरव्वत हुस्न-ए-आलम-गीर है मर्दान-ए-ग़ाज़ी का

शिकायत है मुझे या रब ख़ुदावंदान-ए-मकतब से
सबक़ शाहीं बच्चों को दे रहे हैं ख़ाक-बाज़ी का

बहुत मुद्दत के नख़चीरों का अंदाज़-ए-निगह बदला
कि मैं ने फ़ाश कर डाला तरीक़ा शाहबाज़ी का

क़लंदर जुज़ दो हर्फ़-ए-ला-इलाह कुछ भी नहीं रखता
फ़क़ीह-ए-शहर क़ारूँ है लुग़त-हा-ए-हिजाज़ी का

हदीस-ए-बादा-ओ-मीना-ओ-जाम आती नहीं मुझ को
न कर ख़ारा-शग़ाफ़ों से तक़ाज़ा शीशा-साज़ी का

कहाँ से तू ने ऐ 'इक़बाल' सीखी है ये दरवेशी
कि चर्चा पादशाहों में है तेरी बे-नियाज़ी का

- Allama Iqbal
0 Likes

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari