zamzama kis ki zabaan par b-dil-e-shaad aaya | ज़मज़मा किस की ज़बाँ पर ब-दिल-ए-शाद आया - Amanat Lakhnavi

zamzama kis ki zabaan par b-dil-e-shaad aaya
munh na khola tha ki par baandhne sayyaad aaya

qad jo boota sa tira sarv-e-ravaan yaad aaya
ghash pe ghash mujh ko chaman mein tah-e-shamshaad aaya

le udri dil ko soo-e-dasht hawa-e-vahshat
phir ye jhonka mujhe kar dene ko barbaad aaya

kis qadar dil se faraamosh kiya aashiq ko
na kabhi aap ko bhule se bhi main yaad aaya

dil hua sarv-e-gulistaan ke nazaare se nihaal
shajar-e-qamat-e-dildaar mujhe yaad aaya

ho gai qat'a aseeri mein umeed-e-parwaaz
ud gaye hosh jo par kaatne sayyaad aaya

ho gaya hasrat-e-parvaaz mein dil sau tukde
ham ne dekha jo qafas ko to falak yaad aaya

ज़मज़मा किस की ज़बाँ पर ब-दिल-ए-शाद आया
मुँह न खोला था कि पर बाँधने सय्याद आया

क़द जो बूटा सा तिरा सर्व-ए-रवाँ याद आया
ग़श पे ग़श मुझ को चमन में तह-ए-शमशाद आया

ले उड़ी दिल को सू-ए-दश्त हवा-ए-वहशत
फिर ये झोंका मुझे कर देने को बर्बाद आया

किस क़दर दिल से फ़रामोश किया आशिक़ को
न कभी आप को भूले से भी मैं याद आया

दिल हुआ सर्व-ए-गुलिस्ताँ के नज़ारे से निहाल
शजर-ए-क़ामत-ए-दिलदार मुझे याद आया

हो गई क़त्अ असीरी में उमीद-ए-परवाज़
उड़ गए होश जो पर काटने सय्याद आया

हो गया हसरत-ए-परवाज़ में दिल सौ टुकड़े
हम ने देखा जो क़फ़स को तो फ़लक याद आया

- Amanat Lakhnavi
0 Likes

Urdu Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amanat Lakhnavi

As you were reading Shayari by Amanat Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Amanat Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Urdu Shayari Shayari