dil hai veeraan biyaabaan ki tarah | दिल है वीरान बयाबाँ की तरह - Ameeq Hanafi

dil hai veeraan biyaabaan ki tarah
gosha-e-shehr-e-khamoshaan ki tarah

haaye vo jism tah-e-khaak hai aaj
jis ne rakha tha hamein jaan ki tarah

saahib-e-khaana samjhte the jise
chal diya ghar se vo mehmaan ki tarah

chaand suraj ka gumaan tha jis par
bujh gaya sham-e-shabistaan ki tarah

saaya-e-aatifat ab sar pe nahin
saaya-e-abr-e-gurezaan ki tarah

hai agar apna muqaddar bhi to hai
tang bas tangi-e-daamaan ki tarah

दिल है वीरान बयाबाँ की तरह
गोशा-ए-शहर-ए-ख़मोशाँ की तरह

हाए वो जिस्म तह-ए-ख़ाक है आज
जिस ने रक्खा था हमें जाँ की तरह

साहब-ए-ख़ाना समझते थे जिसे
चल दिया घर से वो मेहमाँ की तरह

चाँद सूरज का गुमाँ था जिस पर
बुझ गया शम-ए-शबिस्ताँ की तरह

साया-ए-आतिफ़त अब सर पे नहीं
साया-ए-अब्र-ए-गुरेज़ाँ की तरह

है अगर अपना मुक़द्दर भी तो है
तंग बस तंगी-ए-दामाँ की तरह

- Ameeq Hanafi
0 Likes

Eid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameeq Hanafi

As you were reading Shayari by Ameeq Hanafi

Similar Writers

our suggestion based on Ameeq Hanafi

Similar Moods

As you were reading Eid Shayari Shayari