ameer laakh idhar se udhar zamaana hua | अमीर लाख इधर से उधर ज़माना हुआ - Ameer Minai

ameer laakh idhar se udhar zamaana hua
vo but wafa pe na aaya main be-wafa na hua

sar-e-niyaaz ko tera hi aastaana hua
sharaab-khaana hua ya qimaar-khaana hua

hua farogh jo mujh ko gham-e-zamaana hua
pada jo daagh jigar mein charaagh-e-khaana hua

ummeed ja ke nahin us gali se aane ki
b-rang-e-umr mera nama-bar ravana hua

hazaar shukr na zaae hui meri kheti
ki barq o sail mein taqseem daana daana hua

qadam huzoor ke aaye mere naseeb khule
javaab-e-qasr-e-sulaimaan ghareeb-khaana hua

tire jamaal ne zohra ko daur dikhlaayaa
tire jalaal se mirrikh ka zamaana hua

koi gaya dar-e-jaanaan pe hum hue paamaal
hamaara sar na hua sang-e-aastaana hua

farogh-e-dil ka sabab ho gai bujhi jo havas
sharaar-e-kushta se raushan charaagh-e-khaana hua

jab aayi josh pe mere kareem ki rahmat
gira jo aankh se aansu dur-e-yagaana hua

hasad se zahar tan-e-aasmaan mein phail gaya
jo apni kisht mein sarsabz koi daana hua

chune maheenon hi tinke gareeb bulbul ne
magar naseeb na do roz aashiyana hua

khayal-e-zulf mein chhaai ye teergi shab-e-hijr
ki khaal-e-chehra-e-zakhmi charaagh-e-khaana hua

ye josh-e-giryaa hua mere said hone par
ki chashm-e-daam ke aansu se sabz daana hua

na pooch naaz-o-niyaaz us ke mere kab se hain
ye husn o ishq to ab hai use zamaana hua

uthaaye sadme pe sadme to aabroo paai
ameer toot ke dil gauhar-e-yagaana hua

अमीर लाख इधर से उधर ज़माना हुआ
वो बुत वफ़ा पे न आया मैं बे-वफ़ा न हुआ

सर-ए-नियाज़ को तेरा ही आस्ताना हुआ
शराब-ख़ाना हुआ या क़िमार-ख़ाना हुआ

हुआ फ़रोग़ जो मुझ को ग़म-ए-ज़माना हुआ
पड़ा जो दाग़ जिगर में चराग़-ए-ख़ाना हुआ

उम्मीद जा के नहीं उस गली से आने की
ब-रंग-ए-उम्र मिरा नामा-बर रवाना हुआ

हज़ार शुक्र न ज़ाए हुई मिरी खेती
कि बर्क़ ओ सैल में तक़्सीम दाना दाना हुआ

क़दम हुज़ूर के आए मिरे नसीब खुले
जवाब-ए-क़स्र-ए-सुलैमाँ ग़रीब-ख़ाना हुआ

तिरे जमाल ने ज़ोहरा को दौर दिखलाया
तिरे जलाल से मिर्रीख़ का ज़माना हुआ

कोई गया दर-ए-जानाँ पे हम हुए पामाल
हमारा सर न हुआ संग-ए-आस्ताना हुआ

फ़रोग़-ए-दिल का सबब हो गई बुझी जो हवस
शरार-ए-कुश्ता से रौशन चराग़-ए-ख़ाना हुआ

जब आई जोश पे मेरे करीम की रहमत
गिरा जो आँख से आँसू दुर-ए-यगाना हुआ

हसद से ज़हर तन-ए-आसमाँ में फैल गया
जो अपनी किश्त में सरसब्ज़ कोई दाना हुआ

चुने महीनों ही तिनके ग़रीब बुलबुल ने
मगर नसीब न दो रोज़ आशियाना हुआ

ख़याल-ए-ज़ुल्फ़ में छाई ये तीरगी शब-ए-हिज्र
कि ख़ाल-ए-चेहरा-ए-ज़ख़्मी चराग़-ए-ख़ाना हुआ

ये जोश-ए-गिर्या हुआ मेरे सैद होने पर
कि चश्म-ए-दाम के आँसू से सब्ज़ दाना हुआ

न पूछ नाज़-ओ-नियाज़ उस के मेरे कब से हैं
ये हुस्न ओ इश्क़ तो अब है उसे ज़माना हुआ

उठाए सदमे पे सदमे तो आबरू पाई
अमीर टूट के दिल गौहर-ए-यगाना हुआ

- Ameer Minai
0 Likes

Wafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Wafa Shayari Shayari