dil ke dariya ko kisi roz utar jaana hai | दिल के दरिया को किसी रोज़ उतर जाना है - Amjad Islam Amjad

dil ke dariya ko kisi roz utar jaana hai
itna be-samt na chal laut ke ghar jaana hai

us tak aati hai to har cheez thehar jaati
jaise paana hi use asal mein mar jaana hai

bol ai shaam-e-safar rang-e-rihaai kya hai
dil ko rukna hai ki taaron ko thehar jaana hai

kaun ubharte hue mahtaab ka rasta roke
us ko har taur soo-e-dasht-e-sehr jaana hai

main khila hoon to usi khaak mein milna hai mujhe
vo to khushboo hai use agle nagar jaana hai

vo tire husn ka jaadu ho ki mera gham-e-dil
har musaafir ko kisi ghaat utar jaana hai

दिल के दरिया को किसी रोज़ उतर जाना है
इतना बे-सम्त न चल लौट के घर जाना है

उस तक आती है तो हर चीज़ ठहर जाती
जैसे पाना ही उसे असल में मर जाना है

बोल ऐ शाम-ए-सफ़र रंग-ए-रिहाई क्या है
दिल को रुकना है कि तारों को ठहर जाना है

कौन उभरते हुए महताब का रस्ता रोके
उस को हर तौर सू-ए-दश्त-ए-सहर जाना है

मैं खिला हूँ तो उसी ख़ाक में मिलना है मुझे
वो तो ख़ुश्बू है उसे अगले नगर जाना है

वो तिरे हुस्न का जादू हो कि मेरा ग़म-ए-दिल
हर मुसाफ़िर को किसी घाट उतर जाना है

- Amjad Islam Amjad
0 Likes

Taareef Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Taareef Shayari Shayari