junoon-e-shauq ab bhi kam nahin hai | जुनून-ए-शौक़ अब भी कम नहीं है - Asrar Ul Haq Majaz

junoon-e-shauq ab bhi kam nahin hai
magar vo aaj bhi barham nahin hai

bahut mushkil hai duniya ka sanwarna
tiri zulfon ka pech-o-kham nahin hai

bahut kuch aur bhi hai is jahaan mein
ye duniya mahaj gham hi gham nahin hai

taqaze kyun karoon paiham na saaqi
kise yaa fikr-e-besh-o-kam nahin hai

udhar mashkook hai meri sadaqat
idhar bhi bad-gumaani kam nahin hai

meri barbaadiyon ka ham-nashino
tumhein kya khud mujhe bhi gham nahin hai

abhi bazm-e-tarab se kya uthoon main
abhi to aankh bhi pur-nam nahin hai

b-ein sail-e-gham o sail-e-hawadis
mera sar hai ki ab bhi kham nahin hai

majaaz ik baada-kash to hai yaqeenan
jo hum sunte the vo aalam nahin hai

जुनून-ए-शौक़ अब भी कम नहीं है
मगर वो आज भी बरहम नहीं है

बहुत मुश्किल है दुनिया का सँवरना
तिरी ज़ुल्फ़ों का पेच-ओ-ख़म नहीं है

बहुत कुछ और भी है इस जहाँ में
ये दुनिया महज़ ग़म ही ग़म नहीं है

तक़ाज़े क्यूँ करूँ पैहम न साक़ी
किसे याँ फ़िक्र-ए-बेश-ओ-कम नहीं है

उधर मश्कूक है मेरी सदाक़त
इधर भी बद-गुमानी कम नहीं है

मिरी बर्बादियों का हम-नशीनो
तुम्हें क्या ख़ुद मुझे भी ग़म नहीं है

अभी बज़्म-ए-तरब से क्या उठूँ मैं
अभी तो आँख भी पुर-नम नहीं है

ब-ईं सैल-ए-ग़म ओ सैल-ए-हवादिस
मिरा सर है कि अब भी ख़म नहीं है

'मजाज़' इक बादा-कश तो है यक़ीनन
जो हम सुनते थे वो आलम नहीं है

- Asrar Ul Haq Majaz
3 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Asrar Ul Haq Majaz

As you were reading Shayari by Asrar Ul Haq Majaz

Similar Writers

our suggestion based on Asrar Ul Haq Majaz

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari