nigaah-e-dil se bata jism ki zubaan se nahin | निगाह-ए-दिल से बता जिस्म की ज़ुबाँ से नहीं - Azhar Faragh

nigaah-e-dil se bata jism ki zubaan se nahin
kahaan kahaan se tu hamaara hai kahaan se nahin

main apni tezi-e-raftaar ka nishaana bana
ye teer haath se mujhko laga kamaan se nahin

to kya bas itna tumhein etibaar hai ham par
falaa falaa se rakho raabta falaa se nahin

ham apne sehan se nikle hue shajar hain faraag
gali se yaad kiye jaayenge makaan se nahin

निगाह-ए-दिल से बता जिस्म की ज़ुबाँ से नहीं
कहाँ कहाँ से तू हमारा है कहाँ से नहीं

मैं अपनी तेज़ी-ए-रफ़्तार का निशाना बना
ये तीर हाथ से मुझको लगा कमाँ से नहीं

तो क्या बस इतना तुम्हें एतिबार है हम पर
फ़लाँ फ़लाँ से रखो राब्ता फ़लाँ से नहीं

हम अपने सेहन से निकले हुए शजर हैं 'फ़राग'
गली से याद किए जाएँगे मकाँ से नहीं

- Azhar Faragh
3 Likes

I Miss you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azhar Faragh

As you were reading Shayari by Azhar Faragh

Similar Writers

our suggestion based on Azhar Faragh

Similar Moods

As you were reading I Miss you Shayari Shayari