dekho insaan khaak ka putla bana kya cheez hai | देखो इंसाँ ख़ाक का पुतला बना क्या चीज़ है - Bahadur Shah Zafar

dekho insaan khaak ka putla bana kya cheez hai
bolta hai is mein kya vo bolta kya cheez hai

roo-b-roo us zulf ke daam-e-bala kya cheez hai
us nigaah ke saamne teer-e-qaza kya cheez hai

yun to hain saare butaan gharaat-gar-e-eemaan-o-deen
ek vo kaafir sanam naam-e-khuda kya cheez hai

jis ne dil mera diya daam-e-mohabbat mein phansa
vo nahin maaloom muj ko naaseha kya cheez hai

hove ik qatra jo zehraab-e-mohabbat ka naseeb
khizr phir to chashma-e-aab-e-baqa kya cheez hai

marg hi sehat hai us ki marg hi us ka ilaaj
ishq ka beemaar kya jaane dava kya cheez hai

dil mera baitha hai le kar phir mujhi se vo nigaar
poochta hai haath mein mere bata kya cheez hai

khaak se paida hue hain dekh ranga-rang gul
hai to ye naacheez lekin is mein kya kya cheez hai

jis ki tujh ko justuju hai vo tujhi mein hai zafar
dhundhta phir phir ke to phir jaa-b-jaa kya cheez hai

देखो इंसाँ ख़ाक का पुतला बना क्या चीज़ है
बोलता है इस में क्या वो बोलता क्या चीज़ है

रू-ब-रू उस ज़ुल्फ़ के दाम-ए-बला क्या चीज़ है
उस निगह के सामने तीर-ए-क़ज़ा क्या चीज़ है

यूँ तो हैं सारे बुताँ ग़ारत-गर-ए-ईमाँ-ओ-दीं
एक वो काफ़िर सनम नाम-ए-ख़ुदा क्या चीज़ है

जिस ने दिल मेरा दिया दाम-ए-मोहब्बत में फँसा
वो नहीं मालूम मुज को नासेहा क्या चीज़ है

होवे इक क़तरा जो ज़हराब-ए-मोहब्बत का नसीब
ख़िज़्र फिर तो चश्मा-ए-आब-ए-बक़ा क्या चीज़ है

मर्ग ही सेहत है उस की मर्ग ही उस का इलाज
इश्क़ का बीमार क्या जाने दवा क्या चीज़ है

दिल मिरा बैठा है ले कर फिर मुझी से वो निगार
पूछता है हाथ में मेरे बता क्या चीज़ है

ख़ाक से पैदा हुए हैं देख रंगा-रंग गुल
है तो ये नाचीज़ लेकिन इस में क्या क्या चीज़ है

जिस की तुझ को जुस्तुजू है वो तुझी में है 'ज़फ़र'
ढूँडता फिर फिर के तो फिर जा-ब-जा क्या चीज़ है

- Bahadur Shah Zafar
1 Like

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari