kyunki ham duniya mein aaye kuchh sabab khulta nahin | क्यूँकि हम दुनिया में आए कुछ सबब खुलता नहीं - Bahadur Shah Zafar

kyunki ham duniya mein aaye kuchh sabab khulta nahin
ik sabab kya bhed waan ka sab ka sab khulta nahin

poochta hai haal bhi gar vo to maare sharm ke
ghuncha-e-tasveer ke maanind lab khulta nahin

shaahid-e-maqsud tak pahunchege kyunkar dekhiye
band hai baab-e-tamannaa hai gazab khulta nahin

band hai jis khaana-e-zindaan mein deewaana tera
us ka darwaaza pari-roo roz o shab khulta nahin

dil hai ye guncha nahin hai is ka uqda ai saba
kholne ka jab talak aave na dhab khulta nahin

ishq ne jin ko kiya khaatir-giriftaa un ka dil
laakh hove garche saamaan-e-tarab khulta nahin

kis tarah maaloom hove us ke dil ka muddaa
mujh se baaton mein zafar vo ghuncha-lab khulta nahin

क्यूँकि हम दुनिया में आए कुछ सबब खुलता नहीं
इक सबब क्या भेद वाँ का सब का सब खुलता नहीं

पूछता है हाल भी गर वो तो मारे शर्म के
ग़ुंचा-ए-तस्वीर के मानिंद लब खुलता नहीं

शाहिद-ए-मक़्सूद तक पहुँचेंगे क्यूँकर देखिए
बंद है बाब-ए-तमन्ना है ग़ज़ब खुलता नहीं

बंद है जिस ख़ाना-ए-ज़िंदाँ में दीवाना तेरा
उस का दरवाज़ा परी-रू रोज़ ओ शब खुलता नहीं

दिल है ये ग़ुंचा नहीं है इस का उक़्दा ऐ सबा
खोलने का जब तलक आवे न ढब खुलता नहीं

इश्क़ ने जिन को किया ख़ातिर-गिरफ़्ता उन का दिल
लाख होवे गरचे सामान-ए-तरब खुलता नहीं

किस तरह मालूम होवे उस के दिल का मुद्दआ
मुझ से बातों में 'ज़फ़र' वो ग़ुंचा-लब खुलता नहीं

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Lab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Lab Shayari Shayari