bade taajiron ki sataai hui | बड़े ताजिरों की सताई हुई - Bashir Badr

bade taajiron ki sataai hui
ye duniya dulhan hai jalai hui

bhari dopahar ka khila phool hai
paseene mein ladki nahaai hui

kiran phool ki pattiyon mein dabii
hasi us ke honton pe aayi hui

vo chehra kitaabi raha saamne
badi khoobsurat padhaai hui

udaasi bichi hai badi door tak
bahaaron ki beti paraai hui

khushi ham ghareebon ki kya hai miyaan
mazaaron pe chadar chadhaai hui

बड़े ताजिरों की सताई हुई
ये दुनिया दुल्हन है जलाई हुई

भरी दोपहर का खिला फूल है
पसीने में लड़की नहाई हुई

किरन फूल की पत्तियों में दबी
हँसी उस के होंटों पे आई हुई

वो चेहरा किताबी रहा सामने
बड़ी ख़ूबसूरत पढ़ाई हुई

उदासी बिछी है बड़ी दूर तक
बहारों की बेटी पराई हुई

ख़ुशी हम ग़रीबों की क्या है मियाँ
मज़ारों पे चादर चढ़ाई हुई

- Bashir Badr
4 Likes

Basant Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Basant Shayari Shayari