dil mein ik tasveer chhupi thi aan basi hai aankhon mein | दिल में इक तस्वीर छुपी थी आन बसी है आँखों में - Bashir Badr

dil mein ik tasveer chhupi thi aan basi hai aankhon mein
shaayad ham ne aaj ghazal si baat likhi hai aankhon mein

jaise ik hareejan ladki mandir ke darwaaze par
shaam diyon ki thaal sajaaye jhaank rahi hai aankhon mein

is roomaal ko kaam mein laao apni palkein saaf karo
maila maila chaand nahin hai dhool jamee hai aankhon mein

padhta ja ye manzar-naama zard azeem pahaadon ka
dhoop khili palkon ke oopar barf jamee hai aankhon mein

main ne ik novel likkha hai aane waali subh ke naam
kitni raaton ka jaaga hoon neend bhari hai aankhon mein

दिल में इक तस्वीर छुपी थी आन बसी है आँखों में
शायद हम ने आज ग़ज़ल सी बात लिखी है आँखों में

जैसे इक हरीजन लड़की मंदिर के दरवाज़े पर
शाम दियों की थाल सजाए झाँक रही है आँखों में

इस रूमाल को काम में लाओ अपनी पलकें साफ़ करो
मैला मैला चाँद नहीं है धूल जमी है आँखों में

पढ़ता जा ये मंज़र-नामा ज़र्द अज़ीम पहाड़ों का
धूप खिली पलकों के ऊपर बर्फ़ जमी है आँखों में

मैं ने इक नॉवेल लिक्खा है आने वाली सुब्ह के नाम
कितनी रातों का जागा हूँ नींद भरी है आँखों में

- Bashir Badr
6 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari