hamaare paas to aao bada andhera hai | हमारे पास तो आओ बड़ा अंधेरा है - Bashir Badr

hamaare paas to aao bada andhera hai
kahi na chhod ke jaao bada andhera hai

udaas kar gaye be-saakhta latife bhi
ab aansuon se rulao bada andhera hai

koi sitaara nahin pattharon ki palkon par
koi charaagh jalao bada andhera hai

haqeeqaton mein zamaana bahut guzaar chuke
koi kahaani sunaao bada andhera hai

kitaaben kaisi utha laaye may-kade waale
ghazal ke jaam uthao bada andhera hai

ghazal mein jis ki hamesha charaagh jalte hain
use kahi se bulao bada andhera hai

vo chaandni ki basharat hai harf-e-aakhir tak
basheer-badr ko laao bada andhera hai

हमारे पास तो आओ बड़ा अंधेरा है
कहीं न छोड़ के जाओ बड़ा अंधेरा है

उदास कर गए बे-साख़्ता लतीफ़े भी
अब आँसुओं से रुलाओ बड़ा अँधेरा है

कोई सितारा नहीं पत्थरों की पलकों पर
कोई चराग़ जलाओ बड़ा अँधेरा है

हक़ीक़तों में ज़माना बहुत गुज़ार चुके
कोई कहानी सुनाओ बड़ा अँधेरा है

किताबें कैसी उठा लाए मय-कदे वाले
ग़ज़ल के जाम उठाओ बड़ा अँधेरा है

ग़ज़ल में जिस की हमेशा चराग़ जलते हैं
उसे कहीं से बुलाओ बड़ा अँधेरा है

वो चाँदनी की बशारत है हर्फ़-ए-आख़िर तक
'बशीर-बद्र' को लाओ बड़ा अँधेरा है

- Bashir Badr
7 Likes

Andhera Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Andhera Shayari Shayari