khushboo ki tarah aaya vo tez hawaon mein | ख़ुशबू की तरह आया वो तेज़ हवाओं में - Bashir Badr

khushboo ki tarah aaya vo tez hawaon mein
maanga tha jise ham ne din raat duaon mein

tum chat pe nahin aaye main ghar se nahin nikla
ye chaand bahut bhatka saawan ki ghataon mein

is shehar mein ik ladki bilkul hai ghazal jaisi
bijli si ghataon mein khushboo si adaaon mein

mausam ka ishaara hai khush rahne do bacchon ko
maasoom mohabbat hai phoolon ki khataaon mein

ham chaand sitaaron ki raahon ke musaafir hain
ham raat chamakte hain tareek khalaon mein

bhagwaan hi bhejenge chaawal se bhari thaali
mazloom parindon ki maasoom sabhaaon mein

daada bade bhole the sab se yahi kahte the
kuchh zahar bhi hota hai angrezee davaaon mein

ख़ुशबू की तरह आया वो तेज़ हवाओं में
माँगा था जिसे हम ने दिन रात दुआओं में

तुम छत पे नहीं आए मैं घर से नहीं निकला
ये चाँद बहुत भटका सावन की घटाओं में

इस शहर में इक लड़की बिल्कुल है ग़ज़ल जैसी
बिजली सी घटाओं में ख़ुशबू सी अदाओं में

मौसम का इशारा है ख़ुश रहने दो बच्चों को
मासूम मोहब्बत है फूलों की ख़ताओं में

हम चाँद सितारों की राहों के मुसाफ़िर हैं
हम रात चमकते हैं तारीक ख़लाओं में

भगवान ही भेजेंगे चावल से भरी थाली
मज़लूम परिंदों की मासूम सभाओं में

दादा बड़े भोले थे सब से यही कहते थे
कुछ ज़हर भी होता है अंग्रेज़ी दवाओं में

- Bashir Badr
16 Likes

Aurat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Aurat Shayari Shayari