main tum ko bhool bhi saka hoon is jahaan ke liye | मैं तुम को भूल भी सकता हूँ इस जहाँ के लिए - Bashir Badr

main tum ko bhool bhi saka hoon is jahaan ke liye
zara sa jhooth zaroor hai dastaan ke liye

mere labon pe koi boond tapki aansu ki
ye qatra kaafi tha jalte hue makaan ke liye

main kya dikhaaun mere taar taar daaman mein
na kuchh yahan ke liye hai na kuchh wahan ke liye

ghazal bhi is tarah us ke huzoor laaya hoon
ki jaise baccha koi aaye imtihaan ke liye

मैं तुम को भूल भी सकता हूँ इस जहाँ के लिए
ज़रा सा झूट ज़रूर है दास्ताँ के लिए

मिरे लबों पे कोई बूँद टपकी आँसू की
ये क़तरा काफ़ी था जलते हुए मकाँ के लिए

मैं क्या दिखाऊँ मिरे तार तार दामन में
न कुछ यहाँ के लिए है न कुछ वहाँ के लिए

ग़ज़ल भी इस तरह उस के हुज़ूर लाया हूँ
कि जैसे बच्चा कोई आए इम्तिहाँ के लिए

- Bashir Badr
2 Likes

Dhokha Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Dhokha Shayari Shayari