meri zindagi bhi meri nahin ye hazaar khaanon mein bat gai | मिरी ज़िंदगी भी मिरी नहीं ये हज़ार ख़ानों में बट गई - Bashir Badr

meri zindagi bhi meri nahin ye hazaar khaanon mein bat gai
mujhe ek mutthi zameen de ye zameen kitni simat gai

tiri yaad aaye to chup rahoon zara chup rahoon to ghazal kahoon
ye ajeeb aag ki bel thi mere tan-badan se lipt gai

mujhe likhne waala likhe bhi kya mujhe padhne waala parhe bhi kya
jahaan mera naam likha gaya wahin roshnai ult gai

na koi khushi na malaal hai ki sabhi ka ek sa haal hai
tire sukh ke din bhi guzar gaye meri gham ki raat bhi kat gai

meri band palkon par toot kar koi phool raat bikhar gaya
mujhe siskiyon ne jaga diya meri kacchi neend uchat gai

मिरी ज़िंदगी भी मिरी नहीं ये हज़ार ख़ानों में बट गई
मुझे एक मुट्ठी ज़मीन दे ये ज़मीन कितनी सिमट गई

तिरी याद आए तो चुप रहूँ ज़रा चुप रहूँ तो ग़ज़ल कहूँ
ये अजीब आग की बेल थी मिरे तन-बदन से लिपट गई

मुझे लिखने वाला लिखे भी क्या मुझे पढ़ने वाला पढ़े भी क्या
जहाँ मेरा नाम लिखा गया वहीं रौशनाई उलट गई

न कोई ख़ुशी न मलाल है कि सभी का एक सा हाल है
तिरे सुख के दिन भी गुज़र गए मिरी ग़म की रात भी कट गई

मिरी बंद पलकों पर टूट कर कोई फूल रात बिखर गया
मुझे सिसकियों ने जगा दिया मिरी कच्ची नींद उचट गई

- Bashir Badr
4 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari