udaas aankhon se aansu nahin nikalte hain | उदास आँखों से आँसू नहीं निकलते हैं - Bashir Badr

udaas aankhon se aansu nahin nikalte hain
ye motiyon ki tarah seepiyon mein palte hain

ghane dhuen mein farishte bhi aankh malte hain
tamaam raat khujuroon ke ped julte hain

main shaahraah nahin raaste ka patthar hoon
yahan sawaar bhi paidal utar ke chalte hain

unhen kabhi na bataana main un ki aankhon mein
vo log phool samajh kar mujhe maslate hain

kai sitaaron ko main jaanta hoon bachpan se
kahi bhi jaaun mere saath saath chalte hain

ye ek ped hai aa is se mil ke ro len ham
yahan se tere mere raaste badalte hain

उदास आँखों से आँसू नहीं निकलते हैं
ये मोतियों की तरह सीपियों में पलते हैं

घने धुएँ में फ़रिश्ते भी आँख मलते हैं
तमाम रात खुजूरों के पेड़ जुलते हैं

मैं शाहराह नहीं रास्ते का पत्थर हूँ
यहाँ सवार भी पैदल उतर के चलते हैं

उन्हें कभी न बताना मैं उन की आँखों में
वो लोग फूल समझ कर मुझे मसलते हैं

कई सितारों को मैं जानता हूँ बचपन से
कहीं भी जाऊँ मिरे साथ साथ चलते हैं

ये एक पेड़ है आ इस से मिल के रो लें हम
यहाँ से तेरे मिरे रास्ते बदलते हैं

- Bashir Badr
5 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari