nazar se guftugoo khaamosh lab tumhaari tarah | नज़र से गुफ़्तुगू ख़ामोश लब तुम्हारी तरह - Bashir Badr

nazar se guftugoo khaamosh lab tumhaari tarah
ghazal ne seekhe hain andaaz sab tumhaari tarah

jo pyaas tez ho to ret bhi hai chaadar-e-aab
dikhaai door se dete hain sab tumhaari tarah

bula raha hai zamaana magar tarasta hoon
koi pukaare mujhe be-sabab tumhaari tarah

hawa ki tarah main be-taab hoon ki shaakh-e-gulaab
lahkati hai meri aahat pe ab tumhaari tarah

misaal-e-waqt mein tasveer-e-subh-o-shaam hoon ab
mere vujood pe chhaai hai shab tumhaari tarah

sunaate hain mujhe khwaabon ki dastaan akshar
kahaaniyon ke pur-asraar lab tumhaari tarah

नज़र से गुफ़्तुगू ख़ामोश लब तुम्हारी तरह
ग़ज़ल ने सीखे हैं अंदाज़ सब तुम्हारी तरह

जो प्यास तेज़ हो तो रेत भी है चादर-ए-आब
दिखाई दूर से देते हैं सब तुम्हारी तरह

बुला रहा है ज़माना मगर तरसता हूँ
कोई पुकारे मुझे बे-सबब तुम्हारी तरह

हवा की तरह मैं बे-ताब हूँ कि शाख़-ए-गुलाब
लहकती है मिरी आहट पे अब तुम्हारी तरह

मिसाल-ए-वक़्त में तस्वीर-ए-सुब्ह-ओ-शाम हूँ अब
मिरे वजूद पे छाई है शब तुम्हारी तरह

सुनाते हैं मुझे ख़्वाबों की दास्ताँ अक्सर
कहानियों के पुर-असरार लब तुम्हारी तरह

- Bashir Badr
5 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari