udaas raat hai koi to khwaab de jaao | उदास रात है कोई तो ख़्वाब दे जाओ - Bashir Badr

udaas raat hai koi to khwaab de jaao
mere gilaas mein thodi sharaab de jaao

bahut se aur bhi ghar hain khuda ki basti mein
faqeer kab se khada hai jawaab de jaao

main zard patton par shabnam saja ke laaya hoon
kisi ne mujh se kaha tha hisaab de jaao

adab nahin hai ye akhbaar ke taraashe hain
gaye zamaanon ki koi kitaab de jaao

phir us ke ba'ad nazaare nazar ko tarsenge
vo ja raha hai khizaan ke gulaab de jaao

meri nazar mein rahe doobne ka manzar bhi
ghuroob hota hua aftaab de jaao

hazaar safhon ka deewaan kaun padhta hai
basheer-badr ka koi intikhaab de jaao

उदास रात है कोई तो ख़्वाब दे जाओ
मिरे गिलास में थोड़ी शराब दे जाओ

बहुत से और भी घर हैं ख़ुदा की बस्ती में
फ़क़ीर कब से खड़ा है जवाब दे जाओ

मैं ज़र्द पत्तों पर शबनम सजा के लाया हूँ
किसी ने मुझ से कहा था हिसाब दे जाओ

अदब नहीं है ये अख़बार के तराशे हैं
गए ज़मानों की कोई किताब दे जाओ

फिर उस के बा'द नज़ारे नज़र को तरसेंगे
वो जा रहा है ख़िज़ाँ के गुलाब दे जाओ

मिरी नज़र में रहे डूबने का मंज़र भी
ग़ुरूब होता हुआ आफ़्ताब दे जाओ

हज़ार सफ़्हों का दीवान कौन पढ़ता है
'बशीर-बद्र' का कोई इंतिख़ाब दे जाओ

- Bashir Badr
3 Likes

Khafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Khafa Shayari Shayari