lab pe hai fariyaad ashkon ki rawaani ho chuki | लब पे है फ़रियाद अश्कों की रवानी हो चुकी - Behzad Lakhnavi

lab pe hai fariyaad ashkon ki rawaani ho chuki
ik kahaani chhid rahi hai ik kahaani ho chuki

mehr ke parde mein poori dil-sitaani ho chuki
banda-parvar rehm kijie meherbaani ho chuki

mera dil taaka gaya jor o jafaa ke vaaste
jab ki poore rang par un ki jawaani ho chuki

jaaie bhi kyun mujhe jhooti tashaffi deejie
aap se aur mere dil ki tarjumaani ho chuki

aa gaya ai sunne waale ab mujhe paas-e-wafa
ab bayaan roodaad-e-dil meri zabaani ho chuki

aakhiri aansu meri chashm-e-alam se gir chuka
sunne waalo khatm ab meri kahaani ho chuki

hum bhi tang aa hi gaye aakhir niyaaz o naaz se
haan khusa qismat ki un ki meherbaani ho chuki

sunne waale soorat-e-tasveer baithe hain tamaam
hazrat-e-'bahzaad bas jadoo-bayaani ho chuki

लब पे है फ़रियाद अश्कों की रवानी हो चुकी
इक कहानी छिड़ रही है इक कहानी हो चुकी

मेहर के पर्दे में पूरी दिल-सितानी हो चुकी
बंदा-परवर रहम कीजिए मेहरबानी हो चुकी

मेरा दिल ताका गया जौर ओ जफ़ा के वास्ते
जब कि पूरे रंग पर उन की जवानी हो चुकी

जाइए भी क्यूँ मुझे झूटी तशफ़्फ़ी दीजिए
आप से और मेरे दिल की तर्जुमानी हो चुकी

आ गया ऐ सुनने वाले अब मुझे पास-ए-वफ़ा
अब बयाँ रूदाद-ए-दिल मेरी ज़बानी हो चुकी

आख़िरी आँसू मिरी चश्म-ए-अलम से गिर चुका
सुनने वालो ख़त्म अब मेरी कहानी हो चुकी

हम भी तंग आ ही गए आख़िर नियाज़ ओ नाज़ से
हाँ ख़ुशा क़िस्मत कि उन की मेहरबानी हो चुकी

सुनने वाले सूरत-ए-तस्वीर बैठे हैं तमाम
हज़रत-ए-'बहज़ाद' बस जादू-बयानी हो चुकी

- Behzad Lakhnavi
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Behzad Lakhnavi

As you were reading Shayari by Behzad Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Behzad Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari