meri be-khudi hai vo be-khudi ki khudi ka wahm-o-gumaan nahin | मिरी बे-ख़ुदी है वो बे-ख़ुदी कि ख़ुदी का वहम-ओ-गुमाँ नहीं - Chakbast Brij Narayan

meri be-khudi hai vo be-khudi ki khudi ka wahm-o-gumaan nahin
ye suroor-e-saaghar-e-may nahin ye khumaar-e-khwaab-e-giraan nahin

jo zuhoor-e-aalam-e-zaat hai ye faqat hujoom-e-sifaat hai
hai jahaan ka aur vujood kya jo tilism-e-wahm-o-gumaan nahin

ye hayaat aalam-e-khwaab hai na gunaah hai na savaab hai
wahi kufr-o-deen mein kharab hai jise ilm-e-raaz-e-jahaan nahin

na vo khum mein baade ka josh hai na vo husn jalwa-farosh hai
na kisi ko raat ka hosh hai vo sehar ki shab ka gumaan nahin

vo zameen pe jin ka tha dabdaba ki buland arsh pe naam tha
unhen yun falak ne mita diya ki mazaar tak ka nishaan nahin

मिरी बे-ख़ुदी है वो बे-ख़ुदी कि ख़ुदी का वहम-ओ-गुमाँ नहीं
ये सुरूर-ए-साग़र-ए-मय नहीं ये ख़ुमार-ए-ख़्वाब-ए-गिराँ नहीं

जो ज़ुहूर-ए-आलम-ए-ज़ात है ये फ़क़त हुजूम-ए-सिफ़ात है
है जहाँ का और वजूद क्या जो तिलिस्म-ए-वहम-ओ-गुमाँ नहीं

ये हयात आलम-ए-ख़्वाब है न गुनाह है न सवाब है
वही कुफ़्र-ओ-दीं में ख़राब है जिसे इल्म-ए-राज़-ए-जहाँ नहीं

न वो ख़ुम में बादे का जोश है न वो हुस्न जल्वा-फ़रोश है
न किसी को रात का होश है वो सहर कि शब का गुमाँ नहीं

वो ज़मीं पे जिन का था दबदबा कि बुलंद अर्श पे नाम था
उन्हें यूँ फ़लक ने मिटा दिया कि मज़ार तक का निशाँ नहीं

- Chakbast Brij Narayan
0 Likes

Ghamand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Chakbast Brij Narayan

As you were reading Shayari by Chakbast Brij Narayan

Similar Writers

our suggestion based on Chakbast Brij Narayan

Similar Moods

As you were reading Ghamand Shayari Shayari