fana ka hosh aana zindagi ka dard-e-sar jaana | फ़ना का होश आना ज़िंदगी का दर्द-ए-सर जाना - Chakbast Brij Narayan

fana ka hosh aana zindagi ka dard-e-sar jaana
ajal kya hai khumaar-e-baada-e-hasti utar jaana

azeezaan-e-watan ko guncha o berg o samar jaana
khuda ko baagbaan aur qaum ko ham ne shajar jaana

uroos-e-jaan naya pairahan-e-hasti badalti hai
faqat tamheed aane ki hai duniya se guzar jaana

museebat mein bashar ke jauhar-e-mardaana khulte hain
mubarak buzdilon ko gardish-e-qismat se dar jaana

vo tab-e-yaas-parvar ne mujhe chashm-e-aqeedat di
ki shaam-e-gham ki taarikee ko bhi noor-e-sehar jaana

bahut sauda raha waiz tujhe naar-e-jahannam ka
maza soz-e-mohabbat ka bhi kuchh ai be-khabar jaana

karishma ye bhi hai ai be-khabar iflaas-e-qaumi ka
talaash-e-rizq mein ahl-e-hunr ka dar-b-dar jaana

ajal ki neend mein bhi khwaab-e-hasti gar nazar aaya
to phir bekar hai tang aa ke is duniya se mar jaana

vo sauda zindagi ka hai ki gham insaan sahta hai
nahin to hai bahut aasaan is jeene se mar jaana

chaman-zaar-e-mohabbat mein usi ne baaghbaani ki
ki jis ne apni mehnat ko hi mehnat ka samar jaana

sidhaari manzil-e-hasti se kuchh be-e'tinaai se
tan-e-khaaki ko shaayad rooh ne gard-e-safar jaana

फ़ना का होश आना ज़िंदगी का दर्द-ए-सर जाना
अजल क्या है ख़ुमार-ए-बादा-ए-हस्ती उतर जाना

अज़ीज़ान-ए-वतन को ग़ुंचा ओ बर्ग ओ समर जाना
ख़ुदा को बाग़बाँ और क़ौम को हम ने शजर जाना

उरूस-ए-जाँ नया पैराहन-ए-हस्ती बदलती है
फ़क़त तम्हीद आने की है दुनिया से गुज़र जाना

मुसीबत में बशर के जौहर-ए-मर्दाना खुलते हैं
मुबारक बुज़दिलों को गर्दिश-ए-क़िस्मत से डर जाना

वो तब्-ए-यास-परवर ने मुझे चश्म-ए-अक़ीदत दी
कि शाम-ए-ग़म की तारीकी को भी नूर-ए-सहर जाना

बहुत सौदा रहा वाइज़ तुझे नार-ए-जहन्नम का
मज़ा सोज़-ए-मोहब्बत का भी कुछ ऐ बे-ख़बर जाना

करिश्मा ये भी है ऐ बे-ख़बर इफ़्लास-ए-क़ौमी का
तलाश-ए-रिज़्क़ में अहल-ए-हुनर का दर-ब-दर जाना

अजल की नींद में भी ख़्वाब-ए-हस्ती गर नज़र आया
तो फिर बेकार है तंग आ के इस दुनिया से मर जाना

वो सौदा ज़िंदगी का है कि ग़म इंसान सहता है
नहीं तो है बहुत आसान इस जीने से मर जाना

चमन-ज़ार-ए-मोहब्ब्बत में उसी ने बाग़बानी की
कि जिस ने अपनी मेहनत को ही मेहनत का समर जाना

सिधारी मंज़िल-ए-हस्ती से कुछ बे-ए'तिनाई से
तन-ए-ख़ाकी को शायद रूह ने गर्द-ए-सफ़र जाना

- Chakbast Brij Narayan
0 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Chakbast Brij Narayan

As you were reading Shayari by Chakbast Brij Narayan

Similar Writers

our suggestion based on Chakbast Brij Narayan

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari