dil kiye taskheer baksha faiz-e-roohaani mujhe | दिल किए तस्ख़ीर बख़्शा फ़ैज़-ए-रूहानी मुझे - Chakbast Brij Narayan

dil kiye taskheer baksha faiz-e-roohaani mujhe
hubb-e-qaumi ho gaya naqsh-e-sulaimaani mujhe

manzil-e-ibarat hai duniya ahl-e-duniya shaad hain
aisi dil-jamaai se hoti hai pareshaani mujhe

jaanchtaa hoon wusat-e-dil hamla-e-gham ke liye
imtihaan hai ranj-o-hirmaan ki faraavani mujhe

haq-parasti ki jo main ne but-parasti chhod kar
brahman kehne lage ilhaad ka baani mujhe

kulft-e-duniya mite bhi to sakhi ke faiz se
haath dhone ko mile bahta hua paani mujhe

khud-parasti mit gai qadr-e-mohabbat badh gai
maatam-e-ahbaab hai taaleem-e-roohaani mujhe

qaum ka gham mol le kar dil ka ye aalam hua
yaad bhi aati nahin apni pareshaani mujhe

zarra zarra hai mere kashmir ka mehmaan-nawaaz
raah mein patthar ke tukdon ne diya paani mujhe

lucknow mein phir hui aaraasta bazm-e-sukhan
baad muddat phir hua zauq-e-ghazal-khwaani mujhe

दिल किए तस्ख़ीर बख़्शा फ़ैज़-ए-रूहानी मुझे
हुब्ब-ए-क़ौमी हो गया नक़्श-ए-सुलैमानी मुझे

मंज़िल-ए-इबरत है दुनिया अहल-ए-दुनिया शाद हैं
ऐसी दिल-जमई से होती है परेशानी मुझे

जाँचता हूँ वुसअत-ए-दिल हमला-ए-ग़म के लिए
इम्तिहाँ है रंज-ओ-हिरमाँ की फ़रावानी मुझे

हक़-परस्ती की जो मैं ने बुत-परस्ती छोड़ कर
बरहमन कहने लगे इल्हाद का बानी मुझे

कुल्फ़त-ए-दुनिया मिटे भी तो सख़ी के फ़ैज़ से
हाथ धोने को मिले बहता हुआ पानी मुझे

ख़ुद-परस्ती मिट गई क़द्र-ए-मोहब्बत बढ़ गई
मातम-ए-अहबाब है तालीम-ए-रूहानी मुझे

क़ौम का ग़म मोल ले कर दिल का ये आलम हुआ
याद भी आती नहीं अपनी परेशानी मुझे

ज़र्रा ज़र्रा है मिरे कश्मीर का मेहमाँ-नवाज़
राह में पत्थर के टुकड़ों ने दिया पानी मुझे

लखनऊ में फिर हुई आरास्ता बज़्म-ए-सुख़न
बाद मुद्दत फिर हुआ ज़ौक़-ए-ग़ज़ल-ख़्वानी मुझे

- Chakbast Brij Narayan
0 Likes

Paani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Chakbast Brij Narayan

As you were reading Shayari by Chakbast Brij Narayan

Similar Writers

our suggestion based on Chakbast Brij Narayan

Similar Moods

As you were reading Paani Shayari Shayari