unhen ye fikr hai har dam nayi tarz-e-jafa kya hai | उन्हें ये फ़िक्र है हर दम नई तर्ज़-ए-जफ़ा क्या है - Chakbast Brij Narayan

unhen ye fikr hai har dam nayi tarz-e-jafa kya hai
hamein ye shauq hai dekhen sitam ki intiha kya hai

gunah-gaaron mein shaamil hain gunaahon se nahin waqif
saza ko jaante hain ham khuda jaane khata kya hai

ye rang-e-be-kasi rang-e-junoon ban jaayega ghaafil
samajh le yaas-o-hirmaan ke marz ki intiha kya hai

naya bismil hoon main waqif nahin rasm-e-shahaadat se
bata de tu hi ai zalim tadapne ki ada kya hai

chamakta hai shaheedon ka lahu parde mein qudrat ke
shafaq ka husn kya hai shokhi-e-rang-e-hina kya hai

umeedein mil gaeein mitti mein daur-e-zabt-e-aakhir hai
sada-e-ghaib batla de hamein hukm-e-khuda kya hai

उन्हें ये फ़िक्र है हर दम नई तर्ज़-ए-जफ़ा क्या है
हमें ये शौक़ है देखें सितम की इंतिहा क्या है

गुनह-गारों में शामिल हैं गुनाहों से नहीं वाक़िफ़
सज़ा को जानते हैं हम ख़ुदा जाने ख़ता क्या है

ये रंग-ए-बे-कसी रंग-ए-जुनूँ बन जाएगा ग़ाफ़िल
समझ ले यास-ओ-हिरमाँ के मरज़ की इंतिहा क्या है

नया बिस्मिल हूँ मैं वाक़िफ़ नहीं रस्म-ए-शहादत से
बता दे तू ही ऐ ज़ालिम तड़पने की अदा क्या है

चमकता है शहीदों का लहू पर्दे में क़ुदरत के
शफ़क़ का हुस्न क्या है शोख़ी-ए-रंग-ए-हिना क्या है

उमीदें मिल गईं मिट्टी में दौर-ए-ज़ब्त-ए-आख़िर है
सदा-ए-ग़ैब बतला दे हमें हुक्म-ए-ख़ुदा क्या है

- Chakbast Brij Narayan
0 Likes

Qaid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Chakbast Brij Narayan

As you were reading Shayari by Chakbast Brij Narayan

Similar Writers

our suggestion based on Chakbast Brij Narayan

Similar Moods

As you were reading Qaid Shayari Shayari