agar dard-e-mohabbat se na insaan aashna hota | अगर दर्द-ए-मोहब्बत से न इंसाँ आश्ना होता - Chakbast Brij Narayan

agar dard-e-mohabbat se na insaan aashna hota
na kuchh marne ka gham hota na jeene ka maza hota

bahaar-e-gul mein deewaanon ka sehra mein para hota
jidhar uthati nazar koson talak jungle haraa hota

may-e-gul-rang lutti yun dar-e-may-khaana vaa hota
na peene ki kami hoti na saaqi se gila hota

hazaaron jaan dete hain buton ki bewafaai par
agar un mein se koi ba-wafa hota to kya hota

rulaaya ahl-e-mehfil ko nigaah-e-yaas ne meri
qayamat thi jo ik qatra in aankhon se juda hota

khuda ko bhool kar insaan ke dil ka ye aalam hai
ye aaina agar soorat-numa hota to kya hota

agar dam bhar bhi mit jaati khalish khaar-e-tamanna ki
dil-e-hasrat-talab ko apni hasti se gila hota

अगर दर्द-ए-मोहब्बत से न इंसाँ आश्ना होता
न कुछ मरने का ग़म होता न जीने का मज़ा होता

बहार-ए-गुल में दीवानों का सहरा में परा होता
जिधर उठती नज़र कोसों तलक जंगल हरा होता

मय-ए-गुल-रंग लुटती यूँ दर-ए-मय-ख़ाना वा होता
न पीने की कमी होती न साक़ी से गिला होता

हज़ारों जान देते हैं बुतों की बेवफ़ाई पर
अगर उन में से कोई बा-वफ़ा होता तो क्या होता

रुलाया अहल-ए-महफ़िल को निगाह-ए-यास ने मेरी
क़यामत थी जो इक क़तरा इन आँखों से जुदा होता

ख़ुदा को भूल कर इंसान के दिल का ये आलम है
ये आईना अगर सूरत-नुमा होता तो क्या होता

अगर दम भर भी मिट जाती ख़लिश ख़ार-ए-तमन्ना की
दिल-ए-हसरत-तलब को अपनी हस्ती से गिला होता

- Chakbast Brij Narayan
0 Likes

Maikada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Chakbast Brij Narayan

As you were reading Shayari by Chakbast Brij Narayan

Similar Writers

our suggestion based on Chakbast Brij Narayan

Similar Moods

As you were reading Maikada Shayari Shayari