kisi ko class se baahar nikaal rakha hai | किसी को क्लास से बाहर निकाल रक्खा है - Charagh Sharma

kisi ko class se baahar nikaal rakha hai
kisi ne seat pe rumal daal rakha hai

kisi ne kamre mein barbaad kar liya khud ko
kisi ne jang mein apna khayal rakha hai

hakeem-e-sheher ke bacchon ko paalne ke liye
har aadmi ne koi rog paal rakha hai

wahaan vo chidiya bhi khush hai ye soch kar sayyaad
ki usne duniya ko pinjare mein daal rakha hai

ghazal hi ishq ka maidaan hai to aage badho
yahan ka morcha hamne sanbhaal rakha hai

किसी को क्लास से बाहर निकाल रक्खा है
किसी ने सीट पे रुमाल डाल रक्खा है

किसी ने कमरे में बर्बाद कर लिया ख़ुद को
किसी ने जंग में अपना ख़याल रक्खा है

हकीम-ए-शहर के बच्चों को पालने के लिए
हर आदमी ने कोई रोग पाल रक्खा है

वहां वो चिड़िया भी ख़ुश है ये सोच कर सय्याद
कि उसने दुनिया को पिंजरे में डाल रक्खा है

ग़ज़ल ही इश्क़ का मैदान है तो आगे बढ़ो
यहाँ का मोर्चा हमने सँभाल रक्खा है

- Charagh Sharma
14 Likes

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari