udte hain girte hain phir se udte hain | उड़ते हैं गिरते हैं फिर से उड़ते हैं - Charagh Sharma

udte hain girte hain phir se udte hain
udne waale udte udte udte hain

koi us boodhe peepal se kah aao
pinjare mein hum khoob maze se udte hain

haaye vo chidiya ud maina ud ke jhagde
aur phir saabit karna bakre udte hain

pinjare mein daana paani sab rakha hai
aur parinde bhooke pyaase udte hain

dekh rahe hain hum bhi jawaani ke mausam
band hawa mein kaise dupatte udte hain

is tote ka pinjra kholo phir dekho
kaise is tote ke tote udte hain

उड़ते हैं गिरते हैं फिर से उड़ते हैं
उड़ने वाले उड़ते उड़ते उड़ते हैं

कोई उस बूढे पीपल से कह आओ
पिंजरे में हम ख़ूब मज़े से उड़ते हैं

हाए वो चिड़िया उड़ मैना उड़ के झगड़े
और फिर साबित करना बकरे उड़ते हैं

पिंजरे में दाना पानी सब रक्खा है
और परिंदे भूके प्यासे उड़ते हैं

देख रहे हैं हम भी जवानी के मौसम
बंद हवा में कैसे दुपट्टे उड़ते हैं

इस तोते का पिंजरा खोलो फिर देखो
कैसे इस तोते के तोते उड़ते हैं

- Charagh Sharma
15 Likes

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari