ab vo ye kah rahe hain meri maan jaaie | अब वो ये कह रहे हैं मिरी मान जाइए - Dagh Dehlvi

ab vo ye kah rahe hain meri maan jaaie
allah teri shaan ke qurbaan jaaie

bigde hue mizaaj ko pehchaan jaaie
seedhi tarah na maaniyega maan jaaie

kis ka hai khauf rokne waala hi kaun hai
har roz kyun na jaaie mehmaan jaaie

mehfil mein kis ne aap ko dil mein chhupa liya
itnon mein kaun chor hai pehchaan jaaie

hain tevari mein bal to nigaahen firee hui
jaate hain aise aane se ausaan jaaie

do mushkilein hain ek jataane mein shauq ke
pehle to jaan jaaie phir maan jaaie

insaan ko hai khaana-e-hasti mein lutf kya
mehmaan aaiye to pashemaan jaaie

go waada-e-visaal ho jhoota maza to hai
kyun kar na aise jhooth ke qurbaan jaaie

rah jaaye baad-e-visl bhi chetak lagi hui
kuchh rakhiye kuchh nikaal ke armaan jaaie

achhi kahi ki gair ke ghar tak zara chalo
main aap ka nahin hoon nigahbaan jaaie

aaye hain aap gair ke ghar se khade khade
ye aur ko jataaiye ehsaan jaaie

dono se imtihaan-e-wafa par ye kah diya
manwaaiye raqeeb ko ya maan jaaie

kya bad-gumaaniyaan hain unhen mujh ko hukm hai
ghar mein khuda ke bhi to na mehmaan jaaie

kya farz hai ki sab meri baatein qubool hain
sun sun ke kuchh na maaniye kuchh maan jaaie

saudaiyaan-e-zulf mein kuchh to latk bhi ho
jannat mein jaaie to pareshaan jaaie

dil ko jo dekh lo to yahi pyaar se kaho
qurbaan jaaie tire qurbaan jaaie

dil ko jo dekh lo to yahi pyaar se kaho
qurbaan jaaie tire qurbaan jaaie

jaane na doonga aap ko be-faisla hue
dil ke muqaddame ko abhi chaan jaaie

ye to baja ki aap ko duniya se kya garz
jaati hai jis ki jaan use jaan jaaie

gusse mein haath se ye nishaani na gir pade
daaman mein le ke mera garebaan jaaie

ye mukhtasar jawaab mila arz-e-wasl par
dil maanta nahin ki tiri maan jaaie

vo aazmooda-kaar to hai gar wali nahin
jo kuchh bataaye daagh use maan jaaie

अब वो ये कह रहे हैं मिरी मान जाइए
अल्लाह तेरी शान के क़ुर्बान जाइए

बिगड़े हुए मिज़ाज को पहचान जाइए
सीधी तरह न मानिएगा मान जाइए

किस का है ख़ौफ़ रोकने वाला ही कौन है
हर रोज़ क्यूँ न जाइए मेहमान जाइए

महफ़िल में किस ने आप को दिल में छुपा लिया
इतनों में कौन चोर है पहचान जाइए

हैं तेवरी में बल तो निगाहें फिरी हुई
जाते हैं ऐसे आने से औसान जाइए

दो मुश्किलें हैं एक जताने में शौक़ के
पहले तो जान जाइए फिर मान जाइए

इंसान को है ख़ाना-ए-हस्ती में लुत्फ़ क्या
मेहमान आइए तो पशेमान जाइए

गो वादा-ए-विसाल हो झूटा मज़ा तो है
क्यूँ कर न ऐसे झूट के क़ुर्बान जाइए

रह जाए बा'द-ए-वस्ल भी चेटक लगी हुई
कुछ रखिए कुछ निकाल के अरमान जाइए

अच्छी कही कि ग़ैर के घर तक ज़रा चलो
मैं आप का नहीं हूँ निगहबान जाइए

आए हैं आप ग़ैर के घर से खड़े खड़े
ये और को जताइए एहसान, जाइए

दोनों से इम्तिहान-ए-वफ़ा पर ये कह दिया
मनवाइए रक़ीब को या मान जाइए

क्या बद-गुमानियाँ हैं उन्हें मुझ को हुक्म है
घर में ख़ुदा के भी तो न मेहमान जाइए

क्या फ़र्ज़ है कि सब मिरी बातें क़ुबूल हैं
सुन सुन के कुछ न मानिए कुछ मान जाइए

सौदाइयान-ए-ज़ुल्फ़ में कुछ तो लटक भी हो
जन्नत में जाइए तो परेशान जाइए

दिल को जो देख लो तो यही प्यार से कहो
क़ुर्बान जाइए तिरे क़ुर्बान जाइए

दिल को जो देख लो तो यही प्यार से कहो
क़ुर्बान जाइए तिरे क़ुर्बान जाइए

जाने न दूँगा आप को बे-फ़ैसला हुए
दिल के मुक़द्दमे को अभी छान जाइए

ये तो बजा कि आप को दुनिया से क्या ग़रज़
जाती है जिस की जान उसे जान जाइए

ग़ुस्से में हाथ से ये निशानी न गिर पड़े
दामन में ले के मेरा गरेबान जाइए

ये मुख़्तसर जवाब मिला अर्ज़-ए-वस्ल पर
दिल मानता नहीं कि तिरी मान जाइए

वो आज़मूदा-कार तो है गर वली नहीं
जो कुछ बताए 'दाग़' उसे मान जाइए

- Dagh Dehlvi
1 Like

Dhokha Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dhokha Shayari Shayari