jo ho saka hai us se vo kisi se ho nahin saka | जो हो सकता है उस से वो किसी से हो नहीं सकता - Dagh Dehlvi

jo ho saka hai us se vo kisi se ho nahin saka
magar dekho to phir kuchh aadmi se ho nahin saka

mohabbat mein kare kya kuchh kisi se ho nahin saka
mera marna bhi to meri khushi se ho nahin saka

alag karna raqeebon ka ilaahi tujh ko aasaan hai
mujhe mushkil ki meri bekasi se ho nahin saka

kiya hai waada-e-farda unhon ne dekhiye kya ho
yahan sabr o tahammul aaj hi se ho nahin saka

ye mushtaqq-e-shahaadat kis jagah jaayen kise dhunden
ki tera kaam qaateel jab tujhi se ho nahin saka

laga kar teg qissa paak kijie daad-khwaaho ka
kisi ka faisla kar munsifi se ho nahin saka

mera dushman b-zaahir chaar din ko dost hai tera
kisi ka ho rahe ye har kisi se ho nahin saka

pursish kahoge kya wahan jab yaa ye soorat hai
ada ik harf-e-waada nazuki se ho nahin saka

na kahiye go ki haal-e-dil magar rang-aashnaa hain ham
ye zaahir aap ki kya khaamoshi se ho nahin saka

kiya jo ham ne zalim kya karega gair munh kya hai
kare to sabr aisa aadmi se ho nahin saka

chaman mein naaz bulbul ne kiya jo apni naale par
chatk kar guncha bola kya kisi se ho nahin saka

nahin gar tujh pe qaabu dil hai par kuchh zor ho apna
karoon kya ye bhi to na-taaqati se ho nahin saka

na rona hai tariqe ka na hansna hai saleeqe ka
pareshaani mein koi kaam jee se ho nahin saka

hua hoon is qadar mahjoob arz-e-muddaa kar ke
ki ab to uzr bhi sharmindagi se ho nahin saka

gazab mein jaan hai kya kijeye badla ranj-e-furqat ka
badi se kar nahin sakte khushi se ho nahin saka

maza jo iztiraab-e-shauq se aashiq ko hai haasil
vo tasleem o raza o bandagi se ho nahin saka

khuda jab dost hai ai daagh kya dushman se andesha
hamaara kuchh kisi ki dushmani se ho nahin saka

जो हो सकता है उस से वो किसी से हो नहीं सकता
मगर देखो तो फिर कुछ आदमी से हो नहीं सकता

मोहब्बत में करे क्या कुछ किसी से हो नहीं सकता
मिरा मरना भी तो मेरी ख़ुशी से हो नहीं सकता

अलग करना रक़ीबों का इलाही तुझ को आसाँ है
मुझे मुश्किल कि मेरी बेकसी से हो नहीं सकता

किया है वादा-ए-फ़र्दा उन्हों ने देखिए क्या हो
यहाँ सब्र ओ तहम्मुल आज ही से हो नहीं सकता

ये मुश्ताक़-ए-शहादत किस जगह जाएँ किसे ढूँडें
कि तेरा काम क़ातिल जब तुझी से हो नहीं सकता

लगा कर तेग़ क़िस्सा पाक कीजिए दाद-ख़्वाहों का
किसी का फ़ैसला कर मुंसिफ़ी से हो नहीं सकता

मिरा दुश्मन ब-ज़ाहिर चार दिन को दोस्त है तेरा
किसी का हो रहे ये हर किसी से हो नहीं सकता

पुर्सिश कहोगे क्या वहाँ जब याँ ये सूरत है
अदा इक हर्फ़-ए-वादा नाज़ुकी से हो नहीं सकता

न कहिए गो कि हाल-ए-दिल मगर रंग-आश्ना हैं हम
ये ज़ाहिर आप की क्या ख़ामुशी से हो नहीं सकता

किया जो हम ने ज़ालिम क्या करेगा ग़ैर मुँह क्या है
करे तो सब्र ऐसा आदमी से हो नहीं सकता

चमन में नाज़ बुलबुल ने किया जो अपनी नाले पर
चटक कर ग़ुंचा बोला क्या किसी से हो नहीं सकता

नहीं गर तुझ पे क़ाबू दिल है पर कुछ ज़ोर हो अपना
करूँ क्या ये भी तो ना-ताक़ती से हो नहीं सकता

न रोना है तरीक़े का न हँसना है सलीक़े का
परेशानी में कोई काम जी से हो नहीं सकता

हुआ हूँ इस क़दर महजूब अर्ज़-ए-मुद्दआ कर के
कि अब तो उज़्र भी शर्मिंदगी से हो नहीं सकता

ग़ज़ब में जान है क्या कीजे बदला रंज-ए-फ़ुर्क़त का
बदी से कर नहीं सकते ख़ुशी से हो नहीं सकता

मज़ा जो इज़्तिराब-ए-शौक़ से आशिक़ को है हासिल
वो तस्लीम ओ रज़ा ओ बंदगी से हो नहीं सकता

ख़ुदा जब दोस्त है ऐ 'दाग़' क्या दुश्मन से अंदेशा
हमारा कुछ किसी की दुश्मनी से हो नहीं सकता

- Dagh Dehlvi
3 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari