uzr un ki zabaan se nikla | उज़्र उन की ज़बान से निकला - Dagh Dehlvi

uzr un ki zabaan se nikla
teer goya kamaan se nikla

vo chhalaava is aan se nikla
al-amaan har zabaan se nikla

khaar-e-hasrat bayaan se nikla
dil ka kaanta zabaan se nikla

fitna-gar kya makaan se nikla
aasmaan aasmaan se nikla

aa gaya ghash nigaah dekhte hi
muddaa kab zabaan se nikla

kha gaye the wafa ka dhoka ham
jhooth sach imtihaan se nikla

dil mein rahne na doon tira shikwa
dil mein aaya zabaan se nikla

vaham aate hain dekhiye kya ho
vo akela makaan se nikla

tum barsate rahe sar-e-mahfil
kuchh bhi meri zabaan se nikla

sach to ye hai moamala dil ka
baahar apne gumaan se nikla

us ko aayat hadees kya samjhen
jo tumhaari zabaan se nikla

pad gaya jo zabaan se teri harf
phir na apne makaan se nikla

dekh kar roo-e-yaar salle-ala
be-tahaasha zabaan se nikla

lo qayamat ab aayi vo kaafir
ban-bana kar makaan se nikla

mar gaye ham magar tira armaan
dil se nikla na jaan se nikla

rehrav-e-raah-e-ishq the laakhon
aage main kaarwaan se nikla

samjho patthar ki tum lakeer use
jo hamaari zabaan se nikla

bazm se tum ko le ke jaayenge
kaam kab phool-paan se nikla

kya muravvat hai navvak-e-dil-doz
pehle hargiz na jaan se nikla

tere deewaanon ka bhi lashkar aaj
kis tajammul se shaan se nikla

mud ke dekha to main ne kab dekha
door jab paasbaan se nikla

vo hile lab tumhaare vaade par
vo tumhaari zabaan se nikla

us ki baaki ada ne jab maara
dam mera aan taan se nikla

mere aansu ki us ne ki taarif
khoob moti ye kaan se nikla

ham khade tum se baatein karte the
gair kyun darmiyaan se nikla

zikr ahl-e-wafa ka jab aaya
daagh un ki zabaan se nikla

उज़्र उन की ज़बान से निकला
तीर गोया कमान से निकला

वो छलावा इस आन से निकला
अल-अमाँ हर ज़बान से निकला

ख़ार-ए-हसरत बयान से निकला
दिल का काँटा ज़बान से निकला

फ़ित्ना-गर क्या मकान से निकला
आसमाँ आसमान से निकला

आ गया ग़श निगाह देखते ही
मुद्दआ कब ज़बान से निकला

खा गए थे वफ़ा का धोका हम
झूट सच इम्तिहान से निकला

दिल में रहने न दूँ तिरा शिकवा
दिल में आया ज़बान से निकला

वहम आते हैं देखिए क्या हो
वो अकेला मकान से निकला

तुम बरसते रहे सर-ए-महफ़िल
कुछ भी मेरी ज़बान से निकला

सच तो ये है मोआमला दिल का
बाहर अपने गुमान से निकला

उस को आयत हदीस क्या समझें
जो तुम्हारी ज़बान से निकला

पड़ गया जो ज़बाँ से तेरी हर्फ़
फिर न अपने मकान से निकला

देख कर रू-ए-यार सल्ले-अला
बे-तहाशा ज़बान से निकला

लो क़यामत अब आई वो काफ़िर
बन-बना कर मकान से निकला

मर गए हम मगर तिरा अरमान
दिल से निकला न जान से निकला

रहरव-ए-राह-ए-इश्क़ थे लाखों
आगे मैं कारवान से निकला

समझो पत्थर की तुम लकीर उसे
जो हमारी ज़बान से निकला

बज़्म से तुम को ले के जाएँगे
काम कब फूल-पान से निकला

क्या मुरव्वत है नावक-ए-दिल-दोज़
पहले हरगिज़ न जान से निकला

तेरे दीवानों का भी लश्कर आज
किस तजम्मुल से शान से निकला

मुड़ के देखा तो मैं ने कब देखा
दूर जब पासबान से निकला

वो हिले लब तुम्हारे वादे पर
वो तुम्हारी ज़बान से निकला

उस की बाँकी अदा ने जब मारा
दम मिरा आन तान से निकला

मेरे आँसू की उस ने की तारीफ़
ख़ूब मोती ये कान से निकला

हम खड़े तुम से बातें करते थे
ग़ैर क्यूँ दरमियान से निकला

ज़िक्र अहल-ए-वफ़ा का जब आया
'दाग़' उन की ज़बान से निकला

- Dagh Dehlvi
1 Like

Jalwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Jalwa Shayari Shayari