ye baat baat mein kya nazuki nikalti hai | ये बात बात में क्या नाज़ुकी निकलती है - Dagh Dehlvi

ye baat baat mein kya nazuki nikalti hai
dabii dabii tire lab se hasi nikalti hai

thehar thehar ke jala dil ko ek baar na phoonk
ki is mein boo-e-mohabbat abhi nikalti hai

bajaae shikwa bhi deta hoon main dua us ko
meri zabaan se karoon kya yahi nikalti hai

khushi mein ham ne ye shokhi kabhi nahin dekhi
dam-e-itaab jo rangat tiri nikalti hai

hazaar baar jo maanga karo to kya haasil
dua wahi hai jo dil se kabhi nikalti hai

ada se teri magar khinch raheen hain talwaarein
nigaah nigaah se chhuri par chhuri nikalti hai

muheet-e-ishq mein hai kya umeed o beem mujhe
ki doob doob ke kashti meri nikalti hai

jhalak rahi hai sar-e-shaakh-e-miza khoon ki boond
shajar mein pehle samar se kali nikalti hai

shab-e-firaq jo khole hain ham ne zakham-e-jigar
ye intizaar hai kab chaandni nikalti hai

samajh to leejie kehne to deejie matlab
bayaan se pehle hi mujh par chhuri nikalti hai

ye dil ki aag hai ya dil ke noor ka hai zuhoor
nafs nafs mein mere raushni nikalti hai

kaha jo main ne ki mar jaaunga to kahte hain
hamaare zaiche mein zindagi nikalti hai

samajhne waale samjhte hain pech ki taqreer
ki kuchh na kuchh tiri baaton mein fee nikalti hai

dam-e-akheer tasavvur hai kis paree-vash ka
ki meri rooh bhi ban kar pari nikalti hai

sanam-kade mein bhi hai husn ik khudaai ka
ki jo nikalti hai soorat pari nikalti hai

mere nikale na niklegi aarzoo meri
jo tum nikaalna chaaho abhi nikalti hai

gham-e-firaq mein ho daagh is qadar betaab
zara se ranj mein jaan aap ki nikalti hai

ये बात बात में क्या नाज़ुकी निकलती है
दबी दबी तिरे लब से हँसी निकलती है

ठहर ठहर के जला दिल को एक बार न फूँक
कि इस में बू-ए-मोहब्बत अभी निकलती है

बजाए शिकवा भी देता हूँ मैं दुआ उस को
मिरी ज़बाँ से करूँ क्या यही निकलती है

ख़ुशी में हम ने ये शोख़ी कभी नहीं देखी
दम-ए-इताब जो रंगत तिरी निकलती है

हज़ार बार जो माँगा करो तो क्या हासिल
दुआ वही है जो दिल से कभी निकलती है

अदा से तेरी मगर खिंच रहीं हैं तलवारें
निगह निगह से छुरी पर छुरी निकलती है

मुहीत-ए-इश्क़ में है क्या उमीद ओ बीम मुझे
कि डूब डूब के कश्ती मिरी निकलती है

झलक रही है सर-ए-शाख़-ए-मिज़ा ख़ून की बूँद
शजर में पहले समर से कली निकलती है

शब-ए-फ़िराक़ जो खोले हैं हम ने ज़ख़्म-ए-जिगर
ये इंतिज़ार है कब चाँदनी निकलती है

समझ तो लीजिए कहने तो दीजिए मतलब
बयाँ से पहले ही मुझ पर छुरी निकलती है

ये दिल की आग है या दिल के नूर का है ज़ुहूर
नफ़स नफ़स में मिरे रौशनी निकलती है

कहा जो मैं ने कि मर जाऊँगा तो कहते हैं
हमारे ज़ाइचे में ज़िंदगी निकलती है

समझने वाले समझते हैं पेच की तक़रीर
कि कुछ न कुछ तिरी बातों में फ़ी निकलती है

दम-ए-अख़ीर तसव्वुर है किस परी-वश का
कि मेरी रूह भी बन कर परी निकलती है

सनम-कदे में भी है हुस्न इक ख़ुदाई का
कि जो निकलती है सूरत परी निकलती है

मिरे निकाले न निकलेगी आरज़ू मेरी
जो तुम निकालना चाहो अभी निकलती है

ग़म-ए-फ़िराक़ में हो 'दाग़' इस क़दर बेताब
ज़रा से रंज में जाँ आप की निकलती है

- Dagh Dehlvi
0 Likes

Jalwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Jalwa Shayari Shayari