le chala jaan meri rooth ke jaana tera | ले चला जान मिरी रूठ के जाना तेरा - Dagh Dehlvi

le chala jaan meri rooth ke jaana tera
aise aane se to behtar tha na aana tera

apne dil ko bhi bataaun na thikaana tera
sab ne jaana jo pata ek ne jaana tera

tu jo ai zulf pareshaan raha karti hai
kis ke ujde hue dil mein hai thikaana tera

aarzoo hi na rahi subh-e-watan ki mujh ko
shaam-e-ghurbat hai ajab waqt suhaana tera

ye samajh kar tujhe ai maut laga rakha hai
kaam aata hai bure waqt mein aana tera

ai dil-e-shefta mein aag lagaane waale
rang laaya hai ye laakhe ka zamaana tera

tu khuda to nahin ai naseh-e-naadaan mera
kya khata ki jo kaha main ne na maana tera

ranj kya vasl-e-adu ka jo ta'alluq hi nahin
mujh ko wallaah hansaata hai rulaana tera

kaaba o dair mein ya chashm-o-dil-e-aashiq mein
inheen do-chaar gharo mein hai thikaana tera

tark-e-aadat se mujhe neend nahin aane ki
kahi neecha na ho ai gor sirhaana tera

main jo kehta hoon uthaaye hain bahut ranj-e-firaq
vo ye kahte hain bada dil hai tavaana tera

bazm-e-dushman se tujhe kaun utha saka hai
ik qayamat ka uthaana hai uthaana tera

apni aankhon mein abhi kaund gai bijli si
hum na samjhe ki ye aana hai ki jaana tera

yun to kya aayega tu fart-e-nazaakat se yahan
sakht dushwaar hai dhoke mein bhi aana tera

daagh ko yun vo mitaate hain ye farmaate hain
tu badal daal hua naam puraana tera

ले चला जान मिरी रूठ के जाना तेरा
ऐसे आने से तो बेहतर था न आना तेरा

अपने दिल को भी बताऊँ न ठिकाना तेरा
सब ने जाना जो पता एक ने जाना तेरा

तू जो ऐ ज़ुल्फ़ परेशान रहा करती है
किस के उजड़े हुए दिल में है ठिकाना तेरा

आरज़ू ही न रही सुब्ह-ए-वतन की मुझ को
शाम-ए-ग़ुर्बत है अजब वक़्त सुहाना तेरा

ये समझ कर तुझे ऐ मौत लगा रक्खा है
काम आता है बुरे वक़्त में आना तेरा

ऐ दिल-ए-शेफ़्ता में आग लगाने वाले
रंग लाया है ये लाखे का जमाना तेरा

तू ख़ुदा तो नहीं ऐ नासेह-ए-नादाँ मेरा
क्या ख़ता की जो कहा मैं ने न माना तेरा

रंज क्या वस्ल-ए-अदू का जो तअ'ल्लुक़ ही नहीं
मुझ को वल्लाह हँसाता है रुलाना तेरा

काबा ओ दैर में या चश्म-ओ-दिल-ए-आशिक़ में
इन्हीं दो-चार घरों में है ठिकाना तेरा

तर्क-ए-आदत से मुझे नींद नहीं आने की
कहीं नीचा न हो ऐ गोर सिरहाना तेरा

मैं जो कहता हूँ उठाए हैं बहुत रंज-ए-फ़िराक़
वो ये कहते हैं बड़ा दिल है तवाना तेरा

बज़्म-ए-दुश्मन से तुझे कौन उठा सकता है
इक क़यामत का उठाना है उठाना तेरा

अपनी आँखों में अभी कौंद गई बिजली सी
हम न समझे कि ये आना है कि जाना तेरा

यूँ तो क्या आएगा तू फ़र्त-ए-नज़ाकत से यहाँ
सख़्त दुश्वार है धोके में भी आना तेरा

'दाग़' को यूँ वो मिटाते हैं ये फ़रमाते हैं
तू बदल डाल हुआ नाम पुराना तेरा

- Dagh Dehlvi
2 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari