dekh kar bilkul nahin lagta ki ham itne door hain | देख कर बिल्कुल नहीं लगता कि हम इतने दूर हैं - Danish Naqvi

dekh kar bilkul nahin lagta ki ham itne door hain
vaise ham ek doosre se achhe khaase door hain

farfaraane ki ijaazat bhi nahi di ja rahi
ped par baithe hue lagta tha pinjare door hain

dard ka ehsaas hota hai bahut si der baad
teer lagte hai yahan par aur girte door hain

dosti mein bhool mat jaana puraani dushmani
baad mein nazdeek hai ham log pehle door hain

mil ke maapenge kisi din darmiyaani faasla
taaki kuchh maaloom ho paaye ki kitni door hain

देख कर बिल्कुल नहीं लगता कि हम इतने दूर हैं
वैसे हम एक दूसरे से अच्छे ख़ासे दूर हैं

फड़फड़ाने की इजाज़त भी नही दी जा रही
पेड़ पर बैठे हुए लगता था पिंजरे दूर हैं

दर्द का एहसास होता है बहुत सी देर बाद
तीर लगते है यहाँ पर और गिरते दूर हैं

दोस्ती में भूल मत जाना पुरानी दुश्मनी
बाद में नज़दीक है हम लोग पहले दूर हैं

मिल के मापेंगे किसी दिन दरमियानी फ़ासला
ताकि कुछ मालूम हो पाए कि कितनी दूर हैं

- Danish Naqvi
1 Like

Dost Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Danish Naqvi

As you were reading Shayari by Danish Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Danish Naqvi

Similar Moods

As you were reading Dost Shayari Shayari