ai jaan shab-e-hijraan tiri sakht badi hai | ऐ जान शब-ए-हिज्राँ तिरी सख़्त बड़ी है - Faez Dehlvi

ai jaan shab-e-hijraan tiri sakht badi hai
har pal magar is nis ki brahma ki ghadi hai

har baal mein hai mera dil-e-saaf girftaar
kya khoob tiri zulf mein motiyaan ki ladi hai

neelam ki jhalak deti hai yaqoot mein goya
so tere lab-e-laal pe missee ki dhadi hai

the zikr daraazi ke tiri hijr ki shab ke
kya pahunchee shitaab aa ke tiri umr badi hai

suraj ka jalane koon jigar jiyooun dil-e-faizaan
ai naar tu kyun dhoop mein sar khol khadi hai

ऐ जान शब-ए-हिज्राँ तिरी सख़्त बड़ी है
हर पल मगर इस निस की ब्रम्हा की घड़ी है

हर बाल में है मेरा दिल-ए-साफ़ गिरफ़्तार
क्या ख़ूब तिरी ज़ुल्फ़ में मोतियाँ की लड़ी है

नीलम की झलक देती है याक़ूत में गोया
सो तेरे लब-ए-लाल पे मिस्सी की धड़ी है

थे ज़िक्र दराज़ी के तिरी हिज्र की शब के
क्या पहुँची शिताब आ के तिरी उम्र बड़ी है

सूरज का जलाने कूँ जिगर जियूँ दिल-ए-'फ़ाएज़'
ऐ नार तू क्यूँ धूप में सर खोल खड़ी है

- Faez Dehlvi
0 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari