ek kaafir-ada ne loot liya | एक काफ़िर-अदा ने लूट लिया - Gulzar Dehlvi

ek kaafir-ada ne loot liya
un ki sharm-o-haya ne loot liya

ik but-e-bewafa ne loot liya
mujh ko tere khuda ne loot liya

aashnaai buton se kar baithe
aashna-e-jafa ne loot liya

hum ye samjhe ki marham-e-gham hai
dard ban kar dava ne loot liya

un ke mast-e-khiraam ne maara
un ki tarz-e-ada ne loot liya

husn-e-yakta ki rahzani tauba
ik fareb-e-nawa ne loot liya

hosh-o-imaan-o-deen kya kahiye
shokhi-e-naqsh-e-paa ne loot liya

rahbari thi ki rahzani tauba
hum ko farmaan-rava ne loot liya

ek shola-nazar ne qatl kiya
ek rangeen-qaba ne loot liya

hum ko ye bhi khabar nahin gulzaar
kab but-e-bewafa ne loot liya

haaye vo zulf-e-mushk-boo tauba
hum ko baad-e-saba ne loot liya

un ko gulzaar main khuda samjha
mujh ko mere khuda ne loot liya

एक काफ़िर-अदा ने लूट लिया
उन की शर्म-ओ-हया ने लूट लिया

इक बुत-ए-बेवफ़ा ने लूट लिया
मुझ को तेरे ख़ुदा ने लूट लिया

आश्नाई बुतों से कर बैठे
आश्ना-ए-जफ़ा ने लूट लिया

हम ये समझे कि मरहम-ए-ग़म है
दर्द बन कर दवा ने लूट लिया

उन के मस्त-ए-ख़िराम ने मारा
उन की तर्ज़-ए-अदा ने लूट लिया

हुस्न-ए-यकता की रहज़नी तौबा
इक फ़रेब-ए-नवा ने लूट लिया

होश-ओ-ईमान-ओ-दीन क्या कहिए
शोख़ी-ए-नक़श-ए-पा ने लूट लिया

रहबरी थी कि रहज़नी तौबा
हम को फ़रमाँ-रवा ने लूट लिया

एक शोला-नज़र ने क़त्ल किया
एक रंगीं-क़बा ने लूट लिया

हम को ये भी ख़बर नहीं 'गुलज़ार'
कब बुत-ए-बेवफ़ा ने लूट लिया

हाए वो ज़ुल्फ़-ए-मुश्क-बू तौबा
हम को बाद-ए-सबा ने लूट लिया

उन को 'गुलज़ार' मैं ख़ुदा समझा
मुझ को मेरे ख़ुदा ने लूट लिया

- Gulzar Dehlvi
0 Likes

Dosti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar Dehlvi

As you were reading Shayari by Gulzar Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dosti Shayari Shayari