ek parwaaz dikhaai di hai | एक पर्वाज़ दिखाई दी है - Gulzar

ek parwaaz dikhaai di hai
teri awaaz sunaai di hai

sirf ik safha palat kar us ne
saari baaton ki safaai di hai

phir wahi laut ke jaana hoga
yaar ne kaisi rihaai di hai

jis ki aankhon mein kati theen sadiyaan
us ne sadiyon ki judaai di hai

zindagi par bhi koi zor nahin
dil ne har cheez paraai di hai

aag mein kya kya jala hai shab bhar
kitni khush-rang dikhaai di hai

एक पर्वाज़ दिखाई दी है
तेरी आवाज़ सुनाई दी है

सिर्फ़ इक सफ़्हा पलट कर उस ने
सारी बातों की सफ़ाई दी है

फिर वहीं लौट के जाना होगा
यार ने कैसी रिहाई दी है

जिस की आँखों में कटी थीं सदियाँ
उस ने सदियों की जुदाई दी है

ज़िंदगी पर भी कोई ज़ोर नहीं
दिल ने हर चीज़ पराई दी है

आग में क्या क्या जला है शब भर
कितनी ख़ुश-रंग दिखाई दी है

- Gulzar
1 Like

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari