dikhaai dete hain dhund mein jaise saaye koi | दिखाई देते हैं धुँद में जैसे साए कोई - Gulzar

dikhaai dete hain dhund mein jaise saaye koi
magar bulane se waqt laute na aaye koi

mere mohalle ka aasmaan soona ho gaya hai
bulandiyon pe ab aa ke pechhe ladaaye koi

vo zard patte jo ped se toot kar gire the
kahaan gaye bahte paaniyon mein bulaaye koi

zaif bargad ke haath mein ra'sha aa gaya hai
jataayein aankhon pe gir rahi hain uthaaye koi

mazaar pe khol kar garebaan duaaein maange
jo aaye ab ke to laut kar phir na jaaye koi

दिखाई देते हैं धुँद में जैसे साए कोई
मगर बुलाने से वक़्त लौटे न आए कोई

मिरे मोहल्ले का आसमाँ सूना हो गया है
बुलंदियों पे अब आ के पेचे लड़ाए कोई

वो ज़र्द पत्ते जो पेड़ से टूट कर गिरे थे
कहाँ गए बहते पानियों में बुलाए कोई

ज़ईफ़ बरगद के हाथ में रा'शा आ गया है
जटाएँ आँखों पे गिर रही हैं उठाए कोई

मज़ार पे खोल कर गरेबाँ दुआएँ माँगें
जो आए अब के तो लौट कर फिर न जाए कोई

- Gulzar
0 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari