garm laashein gireen faseelon se | गर्म लाशें गिरीं फ़सीलों से - Gulzar

garm laashein gireen faseelon se
aasmaan bhar gaya hai cheelon se

sooli chadhne lagi hai khaamoshi
log aaye hain sun ke meelon se

kaan mein aise utri sargoshi
barf fisli ho jaise teelon se

goonj kar aise lautti hai sada
koi pooche hazaaron meelon se

pyaas bharti rahi mere andar
aankh hatti nahin thi jheelon se

log kandhe badal badal ke chale
ghaat pahunchen bade wasiilon se

गर्म लाशें गिरीं फ़सीलों से
आसमाँ भर गया है चीलों से

सूली चढ़ने लगी है ख़ामोशी
लोग आए हैं सुन के मीलों से

कान में ऐसे उतरी सरगोशी
बर्फ़ फिसली हो जैसे टीलों से

गूँज कर ऐसे लौटती है सदा
कोई पूछे हज़ारों मीलों से

प्यास भरती रही मिरे अंदर
आँख हटती नहीं थी झीलों से

लोग कंधे बदल बदल के चले
घाट पहुँचे बड़े वसीलों से

- Gulzar
0 Likes

Bahana Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Bahana Shayari Shayari