jab bhi ye dil udaas hota hai | जब भी ये दिल उदास होता है - Gulzar

jab bhi ye dil udaas hota hai
jaane kaun aas-paas hota hai

aankhen pahchaanti hain aankhon ko
dard chehra-shanaas hota hai

go barasti nahin sada aankhen
abr to baarah-maas hota hai

chaal. pedon ki sakht hai lekin
neeche nakhun ke maas hota hai

zakham kahte hain dil ka gehna hai
dard dil ka libaas hota hai

das hi leta hai sab ko ishq kabhi
saanp mauqa-shanaas hota hai

sirf itna karam kiya kijeye
aap ko jitna raas hota hai

जब भी ये दिल उदास होता है
जाने कौन आस-पास होता है

आँखें पहचानती हैं आँखों को
दर्द चेहरा-शनास होता है

गो बरसती नहीं सदा आँखें
अब्र तो बारह-मास होता है

छाल पेड़ों की सख़्त है लेकिन
नीचे नाख़ुन के मास होता है

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है
दर्द दिल का लिबास होता है

डस ही लेता है सब को इश्क़ कभी
साँप मौक़ा-शनास होता है

सिर्फ़ इतना करम किया कीजे
आप को जितना रास होता है

- Gulzar
8 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari